ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

शनिवार, 12 नवंबर 2011

शव के पास मिले 11 सांप


Mritak Chaitram Sahu

शव के पास मिले 11 सांप
 मित्रों कल की एक घटना है हमारे घर से महज एक किलोमीटर दूर स्थिग्राम कुरूद में नाले के पास रोंगटे खड़ा कर देने वाला एक वाकया हुआ जो मैने कभी नहीं देखा  वह वाकया आप लोग भी सुनेंगे तो दंग रह जायेंगे हुआ यूं की मैं ग्राम कुरूद के पास रूंगटा कालेज के पास एक वास्तु वीजीट पर गया हुआ था। मुझे एक परीचित व्यक्ति ने रोककर बताया महाराज जी प्रणाम ..क्या आप नहीं जानते हैं यहां एक अजीबो गरीब घटना हुयी है मैने कहा नही भाई इतना व्यस्त रहता हुं कि मुझे आस पास की घटनाओं के बारे में पता ही नहीं चल पाता ..खैर बताईए क्या हुआ ..उन्होंने बताया कि  हमारे साथ चलिए और अपने आंखों से ही इस घटना को देखकर बताईए की वास्तवीक में यह है क्या मैं वहां पहुंचा जहां कूरूद गांव का निवासी चैतराम मरा पड़ा था। और शव के पास ही 11 सांप मृत मिले। इसके थोड़ी दूर ही एक सांड भी मरा मिला। इस दृश्य को देखने के लिए प्रत्यक्षदर्शीयों में मेरे अलावा आसपास के गांव से बड़ी संख्या में लोग पहुंचे थे।ग्रामिणों के बताये अनुसार चैतराम(75) गुरूवार सुबह 11 बजे खाना खाकर घर से घूमने-फिरने निकला था। वह शाम तक घर नहीं लौटा। इससे चिंतित उसके दामाद बरतिया ने उसकी तलाश शुरू कर दी। चैतराम अक्सर खेतों की ओर टहलने जाता था। यही सोचकर उसका दामाद भी खेतों की ओर चल पड़ा। थोड़ी दूर जाने के बाद उसे एक नाले में अपने ससुर का शव पड़ा दिखा। उसने तत्काल इसकी सूचना गांव आकर ग्रामीणों को दी। इसके बाद ग्रामीण मौके पर पहुंचे, तब तक रात हो चुकी थी। मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने देखा कि चैतराम चित अवस्था में पड़ा है। उसके आसपास 11 सांप मरे पड़े हैं। सांपों को भरी निगाह से देखा तो दो सांप चैतराम के दाहिने हाथ को लपेटे थे। तीन सांप पैर को लपेटे थे। दो सांप शव के पीठ पर चल रहे थे। दो सांप वहीं मरे पड़े थे।सभी सांप पानी वाले लग रहे थे। घटना की सूचना तत्काल जामुल थाने को दी गई। मौके पर पहुंची, पुलिस ने शव को बाहर निकाला और जिला अस्पताल भेजा। फिलहाल मौत की वजह को खुलासा नहीं हो पाया है। माना जा रहा है कि पैर फिसलने की वजह से वृद्ध पानी में गिर गया होगा, जिससे उसकी मौत हो गई।
 खैर ये बात हुयी पुलिसिया कार्वाही  की लेकिन चौंकाने वाली बात यह है कि वहीं कुछ दूरी पर बैल के शव से मामला कुछ और लग रहा है।
शव के पास सांप मिलने की सूचना मिलने पर शुक्रवार सुबह बड़ी संख्या में आसपास के लोग घटना स्थल पर जुट गए। यहां थोड़ी दूर पर ही एक बैल भी मरा मिला। कुछ लोग 11 सांप को 11-11-11 के अजब संयोग से जोड़कर देखने लगे, तो कुछ लोग इसे दैवीय घटना मानकर पूजा-पाठ में उतारू हो गए। पुलिस ने वृद्ध के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पीएम रिपोर्ट के बाद ही मौत के कारणों का खुलासा हो पाएगा।चैतराम पिता नंदलाल के शव के साथ ही सांप व गाय के मृत हालत में पाए जाने के बाद से अटकलों का दौर शुरू हो गया है।11,11,11,11.11.11.और रात्रि 11 बजे वह घर से निकला था यह एक अजब संयोग के अलावा  गुरुवार को कार्तिक पूर्णिमा होने की वजह से लोग घटना को तंत्र-मंत्र से जोड़ कर देख रहे हैं। शुक्रवार को घटनास्थल पर नारियल व अगरबत्ती भी दिखे। इसे देखने से लग रहा है कि किसी ने वहां पूजा-पाठ भी की है दोस्तों यह तो भारत है उसमें भी छत्तीसगढ़ के लोग और भी आस्थावान होते हैं तो भला चैतराम के शव को क्यों नहीं पूजा जायेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.