ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

रविवार, 4 अगस्त 2013

धर्म-संस्कृति अलंकरण एवं राष्ट्रीय ज्योतिष सम्मेलन भिलाई में 25 अगस्त को

''प्रेस रिलीज़''

धर्म-संस्कृति अलंकरण एवं राष्ट्रीय ज्योतिष सम्मेलन भिलाई में 25 अगस्त को

पाश्चात्य संस्कृति का कुप्रभाव निरंतर भारतीय संस्कृति पर पड़ है ऐसे में देश के हर नागरिक का कर्तव्य है कि, देश की संस्कृति पर हो रहे आघात को हम रोकने का प्रयास करें और ऋषी मुनियों के देश भारत की रक्षा करें । यह अत्यंत हर्ष का विषय है कि, ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे राष्ट्रीय मासिक पत्रिका   ''ज्योतिष का सूर्य'' के माध्यम से देश की संस्कृति को बचाने का प्रयास कर रहे हैं. ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका पाठकों के लिए अपार प्रेम और स्नेह की बदौलत चौथे वर्ष में प्रवेश कर रही है. पत्रिका की चौथी वर्षगांठ के अवसर पर प्रतिवर्ष की तरह इस वर्ष भी 'मायाराम शिक्षण विकास समिति' द्वारा भिलाई के कलामंदिर सिविक सेंटर में आगामी 25 अगस्त को 'धर्म संस्कृति अलंकरण समारोह' का आयोजन किया जा रहा है. जिसमें देश के सुप्रतिष्ठित, धर्म-सेवी, सामाजिक कार्यकर्ता, वरिष्ठ पत्रकार, एवं साहित्यकारों के अलावा भारतीय संस्कृति के पोषक, धर्मधुरीन ज्योतिष गणक एवं धर्म-संस्कृति प्रेमी जनों की गरिमामय उपस्थिति में शिक्षा, साहित्य, उद्योग, खेल, पत्रकारिता, समाजसेवा, जैसे विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ठ कार्य करने वाली 21 महान विभूतियों का सम्मान किया जाएगा. धर्म संस्कृति की रक्षा, उत्कृष्ठ पत्रकारिता और समाजसेवा में अपना अमूल्य योगदान देने के लिए च्मायाराम शिक्षण विकास समितिज् द्वारा 'श्री प्रेम शुक्ल, संपादक शिवसेना के मुखपृष्ठ 'सामना' मुंबई को इस वर्ष 'धर्म संस्कृति अलंकरण' से अलंकृत किया जायेगा।.
    ''भारतस्य प्रतिष्ठा द्वे संस्कृति संस्कृतस्तथा'' अर्थात् पूरे विश्व में भारत देश की पहचान व प्रतिष्ठा दो विषयों से है पहला संस्कृति और दूसरा संस्कृत भाषा को देववाणी भी कहते हैं। सभी धर्म सूत्रों का संग्रह इसी भाषा में की गई है। अत: संस्कृत साहित्य एवं भारतीय संस्कृति की रक्षा के बगैर ज्योतिष शास्त्र संभव नहीं है.    ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका न सिर्फ ज्योतिष पर आधारित है बल्कि इस पत्रिका के माध्यम से देशवासियों में अपने धर्म के प्रति जागरूकता लाने का भी प्रयास किया जा रहा है.'धर्म- संस्कृति और ज्योतिष साथ में जुड़े होने के कारण इस वर्ष लम्बे समय बाद एजुकेशन हब कहलाने वाली इस्पात् नगरी भिलाई में 'राष्ट्रीय ज्योतिष सम्मेलन' भी आयोजित किया जा रहा है. जिसमें देश के विभिन्न स्थानों के ज्योतिषियों का आगमन होगा. इस सम्मेलन में शामिल होने के लिए लगातार पंजीयन आरंभ है. इस राष्ट्रीय ज्योतिष सम्मेलन में हस्त रेखा, फलित ज्योतिष, अंक ज्योतिष वास्तुविद, टेरो कार्ड, जैसे विभिन्न ज्योतिष सम्मलित होंगे. आयोजक मायाराम शिक्षण विकास समिति के अध्यक्ष ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे ने कहा कि, भिलाई वासियों के लिए यह सुनहरा अवसर होगा जब एक साथ बड़ी संख्या में विभिन्न क्षेत्रों के ज्ञाता ज्योतिष एकत्रित होंगे. उन्होने कहा कि सम्मेलन के दौरान आम जन अपनी जन्म कुंडली भी काफी कम दरों पर बनवा सकेंगे साथ ही वे अपनी शंकाओं का समाधान भी वे अपने पसंदीदा ज्योतिषों के माध्यम से कर सकेंगे. इसके लिए एक फार्म वितरित किए जा रहे हैं जो आयोजन स्थल कला मंदिर भिलाई में आयोजन के दिन जमा होंगे और उसके बाद इच्छुक लोग बाहर से आने वाले ज्योर्तिविदों से मिल सकेंगे.
   ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका की चौथी वर्ष गांठ पर आयोजित 'धर्म संस्कृति अलंकरण' एवं 'राष्ट्रीय ज्योतिष सम्मेलन' के दौरान विभिन्न स्थानों से पहुँचने वाले ज्योतिषाचार्यों द्वारा अपने क्षेत्र में किए गए शोधपत्र भी पढ़े जाएंगे और उन्हीं शोध पत्रों के आधार पर सर्वश्रेष्ठ शोध पत्र के लिए चयन समिति द्वारा नाम की घोषणा कर गोल्ड मेडल से अलंकृत किया जाएगा.
    ज्योतिषार्य पंडित विनोद चौबे ने कहा कि इस भव्य आयोजन के लिए लगातार समाजिक संगठनों, ज्योतिषाचार्यों, समाजसेवियों का समर्थन प्राप्त हो रहा है. उन्होंने कहा कि इस भव्य आयोजन के लिए भिलाईवासियों का सहयोग आपेक्षित है.
पत्रकार वार्ता के दौरान च्च्मायाराम शिक्षण विकास समितिज्ज् के अध्यक्ष ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौैबे जी के अलावा वरिष्ठ उद्योगपति श्री के.के.झा, कॉमर्स गुरू संतोष रॉय, टी.वी.पत्रकार एवं आयोजन समिति के उपाध्यक्ष श्री मिथलेश ठाकुर, समाजसेवी नागेंद्र मिश्र, रमेश सोनी, ज्योतिषाचार्य दादा राव बोरोड़े, ओम प्रकाश त्रिपाठी, सुनील सिंह, सुरेश राय, शिवजी यादव, हरिशंकर सिंह, शंभु जायसवाल सहित आयोजन समिति से जुड़े समस्त पदाधिकारी एवं सदस्यगण उपस्थित थे.
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.