ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

गुरुवार, 14 दिसंबर 2017

आज से विवाहादि मांगलिक कार्यों पर लगेगा विराम

आज से मांगलिक कार्यों पर लगेगा विराम, शुक्र हो रहे हैं अस्त, 16 दिसम्बर को सूर्य धनु राशि में प्रवेश कर रहे हैंं, वहीं कुछ पंचांगो के मुताबिक आज ही धनु में सूर्य संक्रमण कर रहे हैं :- ज्योतिषाचार्य पण्डित विनोद चौबे,09827198828 

शुक्र ग्रह कल शाम को 4:46 बजे अस्त हो गये । 16/12/2017 को दिन में 12 बजकर 13 मिनट पर सूर्य धनु राशि में प्रवेश करेंगे किन्तु कुछ विद्वानों तथा पंचांगकारों के मुताबिक आज ही रात्रि 2:59 बजे सूर्य धनु राशि में प्रवेश की बात की जा रही है। 

शुक्रग्रह अस्त होने पर हम सामान्य भाषा मे 'तारा' लगना कहा जाता है। 'तारा' लगने पर और सूर्य के धनु राशि में प्रवेश करने से खरमास प्रारंभ होने पर कोई भी शुभ कार्य वर्जित है, परन्तु अनुष्ठान, श्रीमद्भागवत कथा एवं कोई भी कामनापरक यज्ञादिक कार्य वर्जित नहीं हैं। हां,खरमास में नूतन गृहारंभ, गृह प्रवेश, मूण्डन, विवाहादिक आदि मांगलिक कार्य वर्जित हैं ! जिनको अत्यन्त आवश्यक हो तो उन्हें आने वाले  बसंत पंचमी को अबूझ मुहूर्त मानकर मांगलिक कार्य कर लेना चाहिये! हालॉकी मैं (आचार्य पण्डित विनोद चौबे, 9827198828,  भिलाई) व्यक्तिगत तौर पर वगैर शुक्र उदय के बसंत पंचमी को भी वैवाहिक कार्य नहीं किया जाना चाहिये ! 14 जनवरी मकर संक्रांति को मलमास समाप्त हो जाएगा परंतु शुक्रतारा 3 फरवरी 2018 को उदय होने पर पुनः विवाह कर्म प्रारंभ हो जाएंगे। अतः जिनका विवाह हो चुका है और कुंडली मे शुक्र ग्रह अस्त है वे फरवरी तक अपनी पत्नी का विशेष ध्यान रखें। उनके स्वास्थ्य सम्बधित परेशानी आ सकती है। यदि कुंडली मे शुक्र ग्रह अस्त है और उसकी महादशा है तो विशेष रूप से धन सम्बधी योजनाओ पर असर पड़ेगा। नुकसान की संभावना बढ़ सकती है । वास्तु के अनुसार जिनकी रसोई अग्नि कोण में नही है वे शुक्र ग्रह के अस्त होने पर पारिवारिक कलह में फस सकते है ।  जिनके कुंडली में शुक्र अस्त है, उन्हें सफेद वस्त्र, शक्कर, दही का दान करें ! और आश्रित परिजनों के स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान रखना चाहिये !

 फाल्गुन माह की शुरुआत १ फरवरी से ही हो जा रही है, परन्तु , फरवरी में ३ ता. को शुक्र उदय होने के बाद ४ ता. से मांगलिक कार्यों की शुरुआत हो जायेगी ! सनत रहे ६/१२/२०१७ को शुक्र बालत्व निवृत्ति हो रही है, शास्त्रों का मत है कि शुक्र बालत्व और वार्धक्य अवस्था में मांगलिक कार्य नहीं किये जाने चाहिये, ऐसा धर्मसिन्धु का मानना है ! किन्तु वहीं अन्य कई धर्म ग्रंथों में शुक्र के बारे में बताया गया है कि विवाहादि मांगलिक कार्यों में शुक्र उदय ही स्वयमेव लाभकारी है जिसमें ७,८,९, एवं १०, १८, १९ तारीखों में दिवा एवं रात्रि लग्न हैं, इसके बाद २ मार्च को होली है, इसलिए होली के ८दिन पूर्व होलाष्टक होता है किंवदन्ति है कि होलाष्टक में विवाहादि कार्य वर्जित है परन्तु धर्मशास्त्रों में ! २२/१२/२०१७ से होलाष्टक होने के बावजूद , विवाहादि मांगलिक कार्यों का मुहूर्त २३, २४,२५ को विवाहादि कार्य कर सकते हैं।  मार्च में ३,८,९, १० एवं १२ तारीख को दिवा एवं रात्रि लग्न के विवाह-शुभ-मुहूर्त है ! इसके बाद १४ मार्च २०१८ को सूर्य मीन राशि में प्रवेश करेंगे, मीन राशि के सूर्य में यज्ञोपवित एवं देवी अनुष्ठान विशेष या उनके निमित्त संकल्पित मूण्डन आदि मांगलिक कार्यों के अलावा विवाह-मुहूर्त में यह वर्जित है !
साथ ही ५ दिसम्बर से ७ जनवरी तक शनि अस्त रहेंगे ! जिसकी वजह से मकर, धनु  तथा वृश्चिक राशियों पर साढेसाती का अशुभ प्रभाव शुभता परिवर्तित रहेगा ! इसके अलावां ढैय्या की दो राशियां कन्या और वृषभ राशियों के लोगों के लिये भी शुभ फलदायक रहेगा !

- आचार्य पण्डित विनोद चौबे, 
संपादक - 'ज्योतिष का सूर्य' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका (ज्योतिष एवं हस्तरेखा विशेषज्ञ) शांतिनगर, भिलाई, 9827198828  http://ptvinodchoubey.blogspot.in

सोमवार, 11 दिसंबर 2017

अन्तर्नाद' व्हाट्सएप ग्रुप भिलाई के द्वारा 'कम्बल वितरण चित्रावली' 2

अन्तर्नाद' व्हाट्सएप ग्रुप भिलाई के द्वारा 'कम्बल वितरण चित्रावली'
पूर्व सुनियोजित कार्यक्रम के अनुसार मायाराम शिक्षण विकास समिति एवं 'अन्तर्नाद' व्हाट्सएप ग्रुप के संयुक्त तत्वावधान में 'कम्बल वितरण' कार्य  दिनांक- ११/१२/२०१७ सोमवार को रात्रि ९ बजे घड़ी चौक सुपेला एकत्र हुये वहां संक्षिप्त अवधि आध्यात्मिक गोष्ठी करने के पश्चात, भिलाई स्थित 'आस्था सेवा केन्द्र' सेक्टर-२, में वृद्धजनों को 'कम्बल' प्रदान किया गया ! वहां से भिलाई पॉवर हाऊस रेलवे स्टेशन के लिये जब निकले वहां श्री अनुज नारद और श्री संजय पाण्डेय तथा श्री निकेत चौबे की नजर पावर हाऊस ओव्हर व्रिज के नीचे एक नन्हा सा छोटा सा बच्चा और साथ में वात्सल्य दुलार देती उसकी मां पर नजर पड़ी, वह ठंड की वजह से कांप रही थी, किन्तु अपने बच्चे को अंक (सीने) में दबाकर गर्माहट दे रही थी यह दृश्य बेहद में मार्मिक था ! यह दृश्य देख हमारे मंच के सभी साथियों की आंखे नम थीं....और जुबां पर बस एक ही आवाज़ आ रही थी वह थी ...मां, मां होती है ! उस वात्सल्यमयी महिला के पास पाण्डेय जी, श्री नारदजी, एवं श्री चौबेजी पहुंचे और जब इन लोगों ने उस महिला को कम्बल ओढ़ाया तो मानों उस 'एक मां और एक बेटे को' स्वर्ग मिल गया हो ! इधर 'कम्बल वितरण' हेतु एक जत्था आचार्य पण्डित श्री रुपेश शर्मा जी के नेतृत्व में श्री गौरव माहेश्वरीजी, श्री पुष्पेश सिंह एवं श्री कान्हा महाराज श्री देवा दूबे के साथ पावर हाऊस बस स्टैण्ड और रेलवे स्टेशन के आस-पास फुटपाथ पर सोये हुये  'दरिद्र नारायणों' को कम्बल प्रदान करते हुए भिलाई नगर रेलवे स्टेशन, दुर्ग रेलवे स्टेशन एवं अन्य कई स्थानों पर रात्रि के १:०० बजे तक 'कम्बल वितरण'  किया गया जो खुले आसमान में छोटे-छोटे बच्चों के साथ सो रहे थे मैं, उन सभी दान स्वरुप कम्बल दाता श्री अनिल सिंह चौहान, श्री गौरव माहेश्वरीजी, श्री संजय पाण्डेय जी, श्री राजू महाराज, श्रीमती नीलिमा शुक्ला (रायपुर), श्रीमती साधना जोगलेकर, श्री आलोक हेलीवाल, श्री कान्हा महाराज, श्री ललित सिंघल (केडिया डिस्टलरी), श्री अनुज नारद जी का 'मायाराम शिक्षण विकास समिति एवं 'अन्तर्नाद' व्हाट्सएप ग्रुप की ओर से आभार प्रकट करता हुं ! - आचार्य पण्डित विनोद चौबे, भिलाई


































































 
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.