ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

गुरुवार, 22 फ़रवरी 2018

मुस्लिम उलेमा बोले भगवान शंकर हमारे पहले पैगंबर

अब यह पूर्णतया सिद्ध हो
गया है कि मक्का में मक्केश्वर
महादेव विराजित हैं !!

मुस्लिम उलेमा बोले,
भगवान शंकर हमारे
पहले पैगंबर !!

जमीयत उलमा,बलरामपुर
के सरपरस्त मुफ्ती मोहम्मद
इलियास ने कहा कि शंकर
और पार्वती हमारे मां-बाप हैं।

भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित
करने का हम विरोध नहीं
करते हैं।

जैसे चाइनीज व जापानी हैं।
वैसे ही हम हिंदुस्तानी हैं।
हम भी सनातनधर्मीं हैं।’

जमीयत उलमा के मौलानाओं
ने देश व समाज की बुराइयों
व सामाजिक सौहार्द और
एकता के लिए बलरामपुर
में 27 फरवरी को आयोजित
राष्ट्रीय कौमी एकता कॉन्फ्रेंस
के लिए संतों को आमंत्रित
किया।

क्या शिव-पार्वती हैं
'आदम और ईव'?

हमने यह तो ढूंढ लिया कि
नूह ही मनु है और ह.इब्राहिम
अलै.ही अभिराम है,लेकिन
प्राप्त शोध कहते हैं कि शिव
ही 'आदम' है।

क्यों और कैसे?

भगवान शिव को आदिदेव
कहा जाता है।

यह भी माना जाता है कि सबसे
पहले धरती पर शिव ही प्रकट
हुए।

शिव के दो पुत्र थे,गणेश और
कार्तिकेय।

''जैसा कि कहा गया है कि
आदम के दो पुत्र कैन और
हाबिल थे।

कैन बुरा और हाबिल अच्छा।

कहीं हमने पढ़ा था आदमसेन
और हव्यवती के बारे में।

पार्वती ही क्या ईव है।

भविष्य पुराण में इसका
उल्लेख मिलता है।

भविष्य पुराण में माता पार्वती
को 'हव्यवती' भी कहा गया है।

कुछ विद्वानों का मानना है
कि मनु और शतरूपा ही
आदम और हव्वा थे,लेकिन
कुछ विद्वान कहते हैं कि
वे पहले नहीं दूसरे थे यानी
जल-प्रलय के मनु (नूह)बच
गए थे तो वे दूसरे थे।

दूसरी बार मानव-जीवन रचना
हुई।

कुछ शोधकर्ता मानते हैं कि
ईडन गार्डन श्रीलंका में था।

श्रीलंका आज जैसा द्वीप नजर
आता है यह पहले ऐसा नहीं
था।

यह इंडोनेशिया,जावा,सुमात्रा
और भारत से जुड़ा हुआ था।

श्रीलंका में रहते थे बाबा
आदम और उनकी पत्नी हव्वा।

क्या यह सच है ?

हमने पढ़ा है कि शिव और
पार्वती भी कैलाश पर्वत से
श्रीलंका रहने चले गए थे
जबकि कुबेर ने उन्हें सोने
की लंका बनवाकर दी थी।

हजरत आदम जब आसमान
की जन्नत (ईडन उद्यान)
से निकाले गए तो सबसे
पहले 'हिंदुस्तान की जमीं'
पर ही उतरे,जहां उन्होंने
सबसे पहले कदम रखे
उसे आदम चोटी कहते हैं।

ह.आदम अलै. का 'तनूर'
हिंद में था।

क्या आपको पता है कि
'कश्मीर' ही उस दौर का
स्वर्ग (जन्नत) था,
जहां का राजा इंद्र था।

वहां आज भी सेबफल
की खेती होती है।

एक दूसरा भी स्वर्ग था जिसका
स्थान सप्तऋषि तारामंडल और
ध्रुव तारे के बीच माना गया है।

शिव की कथा और आदम
की कथा में बहुत समानता है।

अगले पन्ने पर 'आदम चोटी'
जिसे रावण ने उठाने का साहस
किया था लेकिन...

श्रीलंका में एक आदम चोटी है।

इस चोटी पर भगवान शंकर
के पांवों के निशान हैं।

इसका प्राचीन नाम सारान्दीप
पर्वत है जिसे 'एडम पीक' भी
कहते हैं।

यह श्रीलंका के दक्षिण-पश्चिम
में स्थित है।

यह पर्वत 2,243 मीटर ऊंचा
और रत्नपुरा से 18 किलोमीटर
पूर्वोत्तर में स्थित है।

इस पर्वत का शंक्वाकार शिखर
22/7 मीटर आयताकार आधार
में समाप्त होता है,जिस पर
मानव पांव के निशान से
मिलता-जुलता एक विशाल
गड्ढा है।

प्राचीन हिंदू मान्यता अनुसार
यह गड्ढा भगवान शिव का
पदचिह्न है जबकि मुसलमान
और ईसाई इसे आदम के पैर
के निशान मानते हैं।

दूसरी ओर बौद्ध इसे बुद्ध
के पैर का निशान कहते हैं।

रामायण में एक प्रसंग आता है
कि एक बार रावण जब अपने
पुष्पक विमान से यात्रा कर
रहा था तो रास्ते में एक वन
क्षेत्र से गुजर रहा था।

उस क्षेत्र के पहाड़ पर
शिवजी ध्यानमग्न बैठे थे।

शिव के गण नंदी ने रावण
को रोकते हुए कहा कि इधर
से गुजरना सभी के लिए
निषिद्ध कर दिया गया है,
क्योंकि भगवान तप में
मगन हैं।

रावण को यह सुनकर
क्रोध उत्पन्न हुआ।

उसने अपना विमान नीचे
उतारकर नंदी के समक्ष खड़े
होकर नंदी का अपमान किया
और फिर जिस पर्वत पर शिव
विराजमान थे  उसे उठाने लगा।

यह देख शिव ने अपने अंगूठे से
पर्वत को दबा दिया जिस कारण
रावण का हाथ भी दब गया और
फिर वह शिव से प्रार्थना करने
लगा कि मुझे मुक्त कर दें।

इस घटना के बाद वह शिव
का भक्त बन गया।

क्या यह वही पहाड़ है और
क्या शिव के पैरों के दबाव
के कारण यह विशालकाय
गड्ढा बन गया ?

हालांकि कुछ लोग इसे रावण
के पैरों के निशान मानते हैं।

श्रीलंका में आदम पुल भी है।

रामसेतु को भी एडम्स ब्रिज
कहा जाता है।

मान्यता है कि बाबा आदम
इसी पुल से होकर भारत,
अफ्रीका और फिर अरब
चले गए थे।

=================

मोहम्मद इलयासी ने क्यों
कहा शिव जी उनके पहले
पैगम्बर हैं....?

रामायण में सभी राक्षसों
का वध हुआ था लेकिन
सूर्पनखा का वध नहीं हुआ
था,उसका नाक और कान
काट कर छोड़ दिया गया था।

वह कपडे से अपने चेहरे को
छुपा कर रहती थी,रावन के
मर जाने के बाद वह अपने
पति के साथ शुक्राचार्य के
पास गयी और जंगल में
उनके आश्रम में रहने लगी....

राक्षसों का वंश ख़त्म न हो
इसलिए शुक्राचार्य ने शिव
जी की आराधना की।

शिव जी ने अपना स्वरुप
शुक्राचार्य को दे कर कहा
कि जिस दिन कोई वैष्णव
इस पर गंगा जल चढ़ा देगा
उस दिन राक्षसों का नाश हो
जायेगा....

उस आत्म लिंग को शुक्राचार्य
ने वैष्णव मतलब हिन्दुओं से
दूर रेगिस्तान में स्थापित किया
जो आज अरब में है।

सूर्पनखा जो उस समय चेहरा
ढक कर रहती थी वो परंपरा
को उसके बच्चो ने पूरा निभाया
आज भी मुस्लिम औरतें चेहरा
ढकी रहती हैं।

सूर्पनखा वंसज आज मुसलमान
कहलाते हैं,क्योंकि शुक्राचार्य ने
इनको जीवन दान दिया इस
लिए ये शुक्रवार को विशेष
महत्त्व देते हैं...

पूरी जानकारी तथ्यों पर
आधारित सच हैं आप
जानते है मक्का मे शिव
लिंग है।
#सन्दर्भ_भविष्य_पुराण

बुधवार, 21 फ़रवरी 2018

एक शब्द की विश्व यात्रा

एक शब्द की विश्व यात्रा !!

पाइथागोरस से पहले आर्यभट्ट, न्यूटन से पहले भास्कराचार्य !! हमारे यहां धनुष की चाप को ज्या कहते हैं।
रेखागणित में इस शब्द का प्रयोग हमारे यहां ही हुआ। यहां से जब यह अरबस्तान में गया,तो वहां ई,ऊ आदि स्वर अक्षर नहीं हैं,अत: उन्होंने इसे ज-ब के रूप में लिखा।

यह जब यूरोप पहुंचा तो वे जेब
कहने लगे। जेब का अर्थ वहां छाती
होता है। लैटिन में छाती के लिए सिनुस
शब्द है। अत: इसका संक्षिप्त रूप हुआ
साइन। ऐसे अनेक शब्दों ने भारत से
यूरोप तक की यात्रा अरबस्तान
होकर की है। इसे कहते हैं एक शब्द की
विश्व यात्रा।

पाइथागोरस प्रमेय या
बोधायन प्रमेय !

कल्पसूत्र ग्रंथों के अनेक अध्यायों में एक अध्याय शुल्ब सूत्रों का होता है। वेदी नापने की रस्सी को रज्जू अथवा शुल्ब कहते हैं! इस प्रकार ज्यामिति को शुल्ब या रज्जू गणित कहा जाता था। अत: ज्यामिति का विषय शुल्ब सूत्रों के अन्तर्गत आता था।

उनमें बोधायन ऋषि का बोधायन प्रमेय निम्न है-

दीर्घचतुरस स्याक्ष्णया
रज्जू: पार्श्वमानी तिर्यक्मानी
यत्पृथग्भूते कुरुतस्तदुभयं
करोति।
(बोधायन शुलब सूत्र १-१२)

इसका अर्थ है,किसी आयात का कर्ण क्षेत्रफल में उतना ही होता है,जितना कि उसकी लम्बाई और चौड़ाई होती है! बोधायन के शुल्ब-सूत्र में यह सिद्धान्त दिया गया है। इसको पढ़ते ही तुरंत समझ में आता है कि यदि किसी आयत का कर्ण ब स,लम्बाई अ ब तथा चौड़ाई अ स है तो बोधायन का प्रमेय ब स२ उ अ ब२ अ अ स२बनता है।

इस प्रमेय को आजकल के विद्यार्थियों को पाइथागोरस प्रमेय नाम से पढ़ाया जाता है, जबकि यूनानी गणितज्ञ पाइथागोरस से कम से कम एक हजार साल पहले बोधायन ने इस प्रमेय का वर्णन किया है।

यह भी हो सकता है कि पाइथागोरस ने शुल्ब-सूत्र का अध्ययन करने के पश्चात
अपनी पुस्तक में यह प्रमेय दिया हो। जो भी हो,यह निर्विवाद है कि ज्यामिति के क्षेत्र में भारतीय गणितज्ञ आधुनिक गणितज्ञों
से भी आगे थे। बोधायन ने उक्त प्रसिद्ध प्रमेय के अतिरिक्त कुछ और प्रमेय भी दिए हैं-

किसी आयत का कर्ण आयत का समद्विभाजन करता है आयत के दो कर्ण एक दूसरे का समद्विभाजन करते हैं! समचतुर्भुज के कर्ण एक दूसरे को समकोण पर विभाजित करते हैं आदि।

बोधायन और आपस्तम्ब दोनों ने ही किसी वर्ग के कर्ण और उसकी भुजा का अनुपात
बताया है,जो एकदम सही है। शुल्ब-सूत्र में किसी त्रिकोण के क्षेत्रफल के बराबर क्षेत्रफल का वर्ग बनाना,वर्ग के क्षेत्रफल के बराबर का वृत्त बनाना,वर्ग के दोगुने,तीन गुने या एक तिहाई क्षेत्रफल के समान क्षेत्रफल का वृत्त बनाना आदि विधियां
बताई गई हैं।

भास्कराचार्य की ‘लीलावती‘ में यह बताया गया है कि किसी वृत्त में बने समचतुर्भुज,पंचभुज, षड्भुज,अष्टभुज आदि की एक भुजा उस वृत्त के व्यास के एक निश्चित अनुपात में होती है।

आर्यभट्ट ने त्रिभुज का क्षेत्रफल
निकालने का सूत्र भी दिया है।

यह सूत्र इस प्रकार है-

त्रिभुजस्य फलशरीरं समदल।।
कोटि भुजार्धासंवर्ग:।

त्रिभुज का क्षेत्रफल उसके लम्ब
तथा लम्ब के आधार वाली भुजा
के आधे के गुणनफल के बराबर
होता है।

पाई ( ) का मान- आज से
१५०० वर्ष पूर्व आर्यभट्ट ने
का मान निकाला था।

किसी वृत्त के व्यास तथा उसकी
परिधि के (घेरे के) प्रमाण को
आजकल पाई कहा जाता है।

पहले इसके लिए माप १०(दस
का वर्ग मूल) ऐसा अंदाजा
लगाया गया।

एक संख्या को उसी से गुणा
करने पर आने वाले गुणनफल
की प्रथम संख्या वर्गमूल बनती
है।

जैसे- २ × २ = ४ अत: २ ही ४
का वर्ग मूल है।

लेकिन १० का सही वर्ग मूल
बताना यद्यपि कठिन है,पर
हिसाब की दृष्टि से अति निकट
का मूल्य जान लेना जरूरी था।

इसे आर्यभट्ट ऐसे कहते हैं-

चतुरधिकम्‌ शतमष्टगुणम्‌
द्वाषष्ठिस्तथा सहस्राणाम्‌
अयुतद्वयनिष्कम्भस्यासन्नो
वृत्तपरिणाह:॥

(आर्य भट्टीय-१०)

अर्थात्‌ एक वृत्त का व्यास यदि
२०००० हो,तो उसकी परिधि
६२२३२ होगी।

परिधि - ६२८३२
व्यास - २००००

आर्यभट्ट इस मान को एकदम
शुद्ध नहीं परन्तु आसन्न यानी
निकट है,ऐसा कहते हैं।

इससे ज्ञात होता है कि वे सत्य
के कितने आग्रही थे।

अकबर के दरबार में मंत्री
अबुल फजल ने अपने समय
की घटनाओं को ‘आईने।
अकबरी‘ में लिखा है।

वे लिखते हैं कि यूनानियों
को हिन्दुओं द्वारा पता लगाये
गए वृत्त के व्यास तथा उसकी
परिधि के मध्य सम्बंध के रहस्य
की जानकारी नहीं थी।

इस बारे में ठोस परिज्ञान प्राप्त
करने वाले हिन्दू ही थे।

आर्यभट्ट को ही पाई का मूल्य।।
बताने वाला प्रथम व्यक्ति
बताया गया है।

त्रिकोणमिति (कैल्कुलस)

त्रिकोणमति का आधार
बोधायन का प्रमेय है।

अत: स्वाभाविक रूप से ही
त्रिकोणमिति के सिद्धांत भी
शुल्ब सूत्रों में दिए गए हैं।

भारत के ज्या और कोटिज्या
पश्चिम में जाकर साइन और
कोसाइन हो गए।

वास्तव में ज्या शब्द धनुष की
डोरी से आया।

वृत्त में अर्द्धव्यास से ज्या तथा
कोटिज्या  का मान निकालने
की पद्धति भारत के गणितज्ञों
को ज्ञात थी।

आज की त्रिकोणमिति के
अनुसार इन्हें इस प्रकार
लिखा जा सकता है-

आर्यभट्ट ने शून्य से ९०० के
कोणों के बीच विभिन्न कोणों
के लिए ज्या (साइन) के मान
निकाल कर उसकी सारिणी भी
दी है।

भास्कराचार्य की ‘लीलावती‘
में एक रोचक प्रश्न दिया हुआ
है-
दो बंदर सौ हाथ (एक हाथ उ
२० इंच) ऊंचे पेड़ (च छ) पर
बैठे हैं।

पेड़ की जड़ से दो सौ हाथ दूर
एक कुआं (झ) है।

एक बंदर पेड़ (०) से उतर कर
कुएं तक जाता है।

दूसरा बंदर एक निश्चित ऊंचाई
(ज) तक एकदम सीधे ऊपर
उछल कर सीधे कुएं तक छलांग
लगाता है।

यदि दोनों बन्दरों की तय की हुई
दूरी समान है (छ च अ च झ उ
छ ज अ ज झ) तो दूसरा बन्दर।
कितना ऊपर उछला अर्थात्‌ छ
ज कितना है ?

यह प्रश्न निश्चित रूप से
त्रिकोणमिति का है और इसी से
छज की दूरी ५० हाथ आती है।

स्पष्ट है कि भास्कराचार्य ने
त्रिकोणमिति के सभी सिद्धान्तों
(सूत्रों) का वर्णन लीलावती
में किया है।

भास्कराचार्य की ही पुस्तक
‘सिद्धांत शिरोमणि‘ के चौथे
खण्ड ग्रह-गणित में किसी
ग्रह की तात्क्षणिक गति
निकालने के लिए अवकलन
(डिफरेन्शिएशन) का प्रयोग
किया गया है।

यह गणित(कैलकुलस)आधुनिक
विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी का आधार है।

लाईबटेनिज तथा न्यूटन इसके
आविष्कारकर्ता माने जाते हैं।

इन दोनों से पांच सौ वर्ष पूर्व
भास्कराचार्य ने कैल्कुलस का
प्रयोग ग्रहों की गति निकालने
के लिए किया था।

इस प्रकार गणित के क्षेत्र में
प्राचीन भारत की श्रेष्ठता का
हमें ज्ञान होता है।

वैदिक गणित :-

पुरी के शंकराचार्य भारती कृष्णतीर्थ
जी ने ८ वर्ष की साधना से एक नवीन
गणितीय पद्धति खोजी,जिसे उन्होंने
बिना आंसू का गणित कहा,जो शुष्क,
उदास और सतानेवाला नहीं अपितु
सरल तथा आनंद देने वाला हो जाता है।

अपनी इस पद्धति को उन्होंने वैदिक
गणित कहा तथा कहा कि इसका
आधार वेद हैं।

उन्होंने १६ मुख्यसूत्र तथा १३ उपसूत्र
दिए जिनका अभ्यास करने पर दस
प्रकार का गणित-अंकगणित,बीजगणित,
रेखागणित,गोलीय त्रिकोणमिति,घन
ज्यामिती,समाकल,अवकल तथा कलन
इत्यादि सभी प्रकार के प्रश्न चुटकी में
हल किए जा सकते हैं।

यहां उन्होंने स्पष्ट किया कि वेद मात्र
संहिता नहीं है वेद अर्थात्‌ समस्त ज्ञान
का स्रोत और असीमित कोष है।

इस व्यापक परिधि में वैदिक गणित
नाम के सूत्र आते हैं।

यद्यपि सूत्र वर्तमान संहिता ग्रंथों में
इसी रूप में नहीं मिलते।

इन सूत्रों का अभ्यास होने और इन्हें
लागू करने का तरीका जानने पर
आश्चर्यजनक परिणाम आते हैं।

जगद्गुरु जी ने स्वयं देश के कुछ
विश्वविद्यालयों में इसका प्रदर्शन
किया।

अमरीका में गणित के प्राध्यापकों
के बीच जब इसका प्रदर्शन किया
और एक जटिल सवाल जो ३-४
पृष्ठों में सिद्ध हो सकता था,उसे
पूछते ही उत्तर बोर्ड पर लिखा,
तो सभी श्रोता अचंभित हो गए।

इंग्लैण्ड के प्रोफेसर निकोलस इसे
गणित नहीं जादू कहते हैं।

जगद्गुरु भारती कृष्णतीर्थ जी से
लोग पूछते थे,ये गणित है या जादू
तो वे उत्तर देते हैं कि आप जब तक
नहीं जानते तब तक जादू है और जब
जान लेते हैं तो गणित।

यह पद्धति यदि प्रारंभ से ही सिखाई
जाए तो देश में गणित के अभ्यास में
रुचि बढ़ सकती है।

अनेक विद्वान आज इस पर शोध कर
रहे हैं तथा उसे सीखने की पद्धतियां
विकसित कर रहे हैं।

वे अद्भुत गणितीय १६ सूत्र तथा
१३ उपसूत्र  :-

जगद्गुरु भारती कृष्ण तीर्थ जी द्वारा
प्रतिपादित वैदिक गणित के 16 सूत्र
एवं 13 उपसूत्र;-

16 सूत्र;

1. एकाधिकेन पूर्वेण -
-पहले से एक अधिक के द्वारा,

2. निखिलं नवतश्चरमं दशत: -
-सभी नौ में से तथा अन्तिम दस में से,

3. उध्र्वतिर्यक् भ्याम् -
-सीधे और तिरछे दोनों विधियों से,

4. परावत्र्य योजयेत् -
-विपरीत उपयोग करें।

5. शून्यं साम्यसमुच्चये -
-समुच्चय समान होने पर शून्य होता है।

6. आनुररूप्ये शून्यमन्यत् -
-अनुरूपता होने पर दूसरा शून्य होता है।

7. संकलनव्यवकलनाभ्याम् -
-जोड़कर और घटाकर,

8. पूरणापूराणाभ्याम् -
-पूरा करने और विपरीत क्रिया द्वारा,

9. चलनकलनाभ्याम् -
-चलन-कलन की क्रियाओं द्वारा,

10. यावदूनम् -
-जितना कम है।

11. व्यष्टिसमिष्ट: -
-एक को पूर्ण और पूर्ण को एक
मानते हुए।

12. शेषाण्यङ्केन चरमेण -
-अंतिम अंक के सभी शेषों को।

13. सोपान्त्यद्वयमन्त्यम् -
-अंतिम और उपान्तिम का दुगुना।

14. एकन्यूनेन पूर्वेण -
-पहले से एक कम के द्वारा।

15. गुणितसमुच्चय: -
-गुणितों का समुच्चय।

16. गुणकसमुच्चय: -
-गुणकों का समुच्चय।

13 उपसूत्र;

1. आनुरूप्येण -
-अनुरूपता के द्वारा।

2. शिष्यते शेषसंज्ञ: -
-बचे हुए को शेष कहते हैं।

3. आद्यमाद्येनान्त्यमन्त्येन -
-पहले को पहले से,अंतिम को
अंतिम से।

4. केवलै: सप्तकं गुम्यात् -
"क","व","ल" से 7 गुणा करें।

5. वेष्टनम् -
भाजकता परीक्षण की एक विशिष्ट
क्रिया का नाम।

6. यावदूनं तावदूनम् -
जितना कम उतना और कम।

7. यावदूनं तावदूनीकृत्य वर्ग
च योजयेत्,

8. अन्त्ययोर्दशकेऽपि,

9. अन्त्ययोरेव,

10. समुच्चयगुणित:,

11. लोपनस्थापनाभ्याम्

12. विलोकनम्,

13. गुणितसमुच्चय: समुच्चयगुणित

"संकलित''
- आचार्य पण्डित विनोद चौबे, संपादक- 'ज्योतिष का सूर्य' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका, शांति नगर, भिलाई, दुर्ग (..)
मोबाईल नं.- 9827198828

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.