ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

शुक्रवार, 2 दिसंबर 2011

सपनो की दुनिया का रहस्य

सपनो की दुनिया का रहस्य
ज्योतिषाचार्य पं.विनोद चौबे 09827198828, Bhilai (C.g.)
निद्रा और स्वप्न का चोली-दामन का संबंध है। नींद के बिना सपने नहीं आते हैं। यह धारणा गलत है कि गहरी नींद में सपने नहीं आते हैं। गहरी नींद में भी सपने आते हैं, अलबत्ता कुछ लोगों को ऐसे सपने याद नहीं रहते। सपना सभी देखते हैं कुछ वर्ष पहले यह बात समाचार-पत्रों में आई कि पाश्चात्य शोध ने सिद्ध कर दिया है कि मनुष्य ही नहीं, पशु भी सपने देखते हैं। यह तथ्य हमारे चिंतकों ने सदियों पहले बताया था।
प्रश्नोपनिषद के पांचवें श्लोक में यह स्पष्ट है कि सभी प्राणी स्वप्न देखते हैं। सर्वपश्यतिसर्व:पश्यति मान्यता है कि उपनिषदों का समय लगभग 6 हजार वर्ष पहले का है। दरअसल, मनुष्य या किसी भी प्राणी में शरीर, मन और आत्मा की प्रधानता होती है। मुख्य रूप से स्वप्न मन के विषय हैं। यही कारण है कि मनोविज्ञान विषय के अन्तर्गत उसका अध्ययन किया जाता है। उपनिषद कहते हैं-अत्रैषदेव:स्वप्नेमहिमानमनुभवति।
स्वप्न अक्सर सही होते हैं, कभी-कभी ही यह सच नहीं होता। स्वप्न संबंधी किंवदंतियां लोगों के अनुभवों पर आधारित होती हैं। इसलिए उन्हें अंधविश्वास कह कर गलत नहीं ठहराया जा सकता है।
क्या है अर्थ?
स्वप्न देखने के बाद हम उसका कुछ न कुछ अर्थ लगाते हैं। इसके आधार पर स्वप्नों के कुछ प्रकार हैं-निरर्थक सार्थक, भविष्यसूचक,शुभफलदायी,अशुभफलदायी,दैवी, आवश्यकता-पूर्ति-कारक, आनंद देने वाला, भय दर्शाने वाला इत्यादि। निरर्थक स्वप्न ऐसे होते हैं, जो मन के भटकावसे उत्पन्न होते हैं। जागने पर प्राय: हम उसे भूल जाते हैं। जो स्वप्न हमें याद रहते हैं, वे सार्थक कहलाते हैं। ये स्वप्न शुभ फलदायी,अशुभ फलदायी या भविष्य सूचक भी हो सकते हैं। छत्रपति शिवाजी की इष्ट देवी तुलजा भवानी थीं। स्थानीय लोग मानते हैं कि उन्होंने स्वप्न में प्रकट होकर शिवाजी से बीजापुरके सेनापति अफजल से युद्ध करने का आदेश दिया था। जनश्रुतियोंके अनुसार, स्वयं शिव और पार्वती तुलसीदास के स्वप्न में आए। उन दोनों ने उन्हें रामचरितमानस लोक भाषा में लिखने का आदेश दिया। गोस्वामी के शब्दों में -
सपनेहुंसाथिमोपर, जो हर गौरी पसाउ।
तेफुट होइजो कहहीं, सब भाषा मनितिप्रभाउ।
लोक-भाषा अवधि में लिखा गया रामचरितमानस और तुलसी दोनों अमर हो गए।
इंटरप्रिटेशन ऑफ ड्रीम्स: पाश्चात्य चिंतकों ने भी सपनों का विश्लेषण किया है। इनमें फ्रॉयडका नाम उल्लेखनीय है। उनका इंटरप्रिटेशन ऑफ ड्रीम्स बहुत लोकप्रिय हुआ। फ्रॉयडके अनुसार, हम अपनी नींद को तीन अवस्था में बांट सकते हैं-चेतन (कॉन्शस), अचेत (अनकॉन्शस), अर्द्धचेतन (सब कॉन्शस)।अर्द्धचेतन अवस्था में ही हम स्वप्न देखते हैं। उनके अनुसार, स्वप्न में हम सभी उन्हीं इच्छाओं को पूरी होते हुए देखते हैं, जिसे हम अपने मन में दबाए रखते हैं। यह इच्छा किसी लक्ष्य को पाने, यहां तक कि हमारी दमित काम भावना भी हो सकती है। फ्रॉयडका कहना था कि हमें उन स्वप्नों को सच मानने के बजाय उनका विश्लेषण करना चाहिए।
आइये जाने कुछ रोचक जानकारियां स्वप्न के बारे में—
सपने अपरमपार होते है यह किसी सोच के तहत नही आते इन असीमित सपनो का भी एक विज्ञान होता है, एक कथन होता है।
1. पीछा करने वाले सपने :  इस सपने मे प्राय: ये होता है कि कोई आपका पीछा कर रहा है, इसमें कई बार कोई हमला करने वाला या कोई अज्ञात आपको मारने के लिए पीछा करता है। दरअसल सपने मे दिखाया गया हमलावर आपके भीतरी भावना को दिखाता है। अधिकतर यह आपके अंदर के क्रोध, ईष्र्या, डर या प्यार हो सकता है। प्यार की भावना, प्यार में ठुकराया हुआ, महिलाओं के असुरक्षित होने के डर से भी इस तरह के सपने आते हैं।
2. परीक्षा वाले सपने : कई बार पेपर पूरा न होने का सपना, पेपर मिलने पर कुछ भी न आना, परीक्षा में लेट हो जाना, पेन या पेन्सिल की नीप टूट जाना दिखाई देना हैं। इन सपनो का संबंध परीक्षा से सामान्यत: परीक्षा से नही होता बल्कि उस व्यक्ति को परीक्षा मे काफी अच्छे नम्बर आते हैं।
3. गिरने वाले सपने : कई बार सपनो मे उचांई से नीचे गिरते हुये दिखते है, कई बार जमीन से भी टकरा जाते हैं। यह सपना समान्यत:उस व्यक्ति के अंदर आक्रोश व कई बार सोच मे अस्थिरता दिखाता है।
4. उडऩे वाले सपने : बहुत बार आप आसमान में उड़ते हुये दिखाई देते है। नीचे दिखने वाले दृश्य बहुत खुबसूरत दिखते है और आप उसका आनन्द लेते है। यह सपना दिखाता है कि आप कई परिस्थितियों में, प्रोजेक्ट में, विचारों मे, अपनी पकड़ बनाये रखने में सक्षम हैं।
5. दांत का टूटना : कई बार सपनो मे आपके पूरे दांत टूट जाते है या एक-एक करके आपके पूरे दांत निकलने लगते है। यह सपना किसी प्रियजन के बीमार होने को दर्शाता है। यदि आपके पूराने दांत टूटकर नये दांत आते दिखते है तो इसका अर्थ यह होता है आपको पैसा प्राप्त होने की संभावना प्रबल है।
6. नग्न दिखने वाले सपने- यदि आप सपने मे नग्न दिखाई देते है। यह सपना दर्शाता है कि कोई भावनात्मक रूप से आपका दुरूपयोग होने वाला है।
7.सपने में वाहन देखने का अर्थ है कि आपके जीवन में कुछ नयी दिशायें आने को है और आप एक बेहतर कल की ओर बढऩे वाले हैं.परन्तु ध्यान रहे की आपने जिस वाहन को देखा है वह अच्छी स्थिति में है, अन्यथा इसका विपरीत फल प्राप्त होगा.
8. सपने में अपने आप को मरते हुए देखने का अर्थ है की जीवन में बाद बदलाव आने वाले हैं .
9.सपने में सांप की बिल अथवा संकरी गली देखने का अर्थ है की जीवन में परेशनियाँ आने वाली हैं. वैसे तो सांप को देखना अत्यंत कामुकता का सूचक है. इसी तरह यदि सांप किसी खजाने की रखवाली करता हुए दिखे तो आकस्मिक धन लाभ का योग बनता है.
10.सपने में यदि अपने आप को माला जपते देखा तो समझे कि सारी चिंताओं से मुक्त होने का समय आ गया है.
11.सपने में खिले हुए गुलाब के फूल देखने से मनोकामना पूर्ण होती है.
12.यदि आपने सपने में हवं निर्माण होते हुए देखा तो आपको यह मान लेना चाहिए कि आपकी आर्थिक स्थिति में जबरदस्त उछाल आने को है।
13. स्वयं को पतंग उड़ाते देखने का अर्थ है,व्यापर में लाभ होना.
14.सपने में यदि कोई व्यक्ति अपने शत्रु को मित्र बना ले तो उसे व्ययसाय में अप्रत्यासित सफलता मिलती है.
14. यदि आप सप्नेमें किसी बड़ी इमारत का गुम्बद देखें तो समझे कि शीघ्र हि पदोन्नती होने वाली हैं.
15. अगर खुद को किसी परेड अथवा सेना का नेतृत्व करते हुए देखते हैं तो समझें कि जल्द ही पद्दोनती होने वाली है.
16. सपने में यदि आप स्वयं को उदाश, मलिन, रक्तहीन व पिला चेहरा लिए देखतें हैं तो समझना चाहिए कि अब गरीबी और बीमारी के पल आने को हैं.वहीं खुद को रोता हुआ देखना अच्छा है. यदि चेहरा कला दिखाई दे तो जातक दीर्घजीवी होगा.
17. सपने में किसी के मृत्यु पर खुद को रोता पाना उस व्यक्ति के दीर्घायु होने का सूचक है.
18. सपने में यदि आपको अपनी योजनायें विफल होती दिखाई दें तो इसका फल उल्टा प्राप्त होता है. इसी प्रकार खुद को अपमानित होते हुए देखने का अर्थ है मान-सम्मान प्राप्त करना.
19. सपने में रसभरे फल खाना अत्यंत शुभ माना गया है।
20.सपने में बच्चे को पालते हुए देखना भविष्य में परिवारी सुख को दर्शाता है .
21. सपने में खिलौना देखने से संतान सुख की प्राप्ति होती है.
22. सपने में अगर आपको अपना हँसता हुआ चेहरा दिखाई दे तो हर्षोउल्लास की प्राप्ति होती है. परन्तु ठहाके लगा कर हँसना दु:ख देने वाला होता है
23.यदि सपने में कोई लड़की अपने आप को मूल्यवान भेंट या उपहार प्राप्त करते हुए देखे तो उसे पूर्ण दांपत्य सुख मिलेगा.
24.यदि कोई लड़की सपने में स्वयं को मेले या नुमाईश में देखे तो उसे विनोदप्रिय व् दृढ सिन्धंतों वाला प्रेमी मिलेगा.
25.यदि किसी को सपने में कढ़ाई किये हुए वस्त्र दिखाई दें तो यह मान लें की उसे समझदार और मितव्ययी पत्नी प्राप्त होगी.
26. सपने में यदि कोई व्यक्ति स्वयं को तूफानी मौसम में नाव या जहाज पर बैठा हुआ देखे तो उसे दुर्भाग्य का सामना करना पड़ सकता है.यदि वह यह देखता है की वह पानी में गिर गया, तो उसे व्यापर में भारी घाटा होने की सम्भावना है .
बीमार/रोगी को आने वाले सपनों का प्रभाव:
इस बारे में प्राचीन आयुर्वेदाचार्यों का मानना है कि रोगी अवस्था मे आने वाले सपनें अक्सर रोग की स्थिति की ओर संकेत करते हैं । वे आचार्य रोगी के देखे गए सपनों के आधार पर रोग की जटिलता या सहजता का विचार करने में समर्थ थे । वह इन का संम्बध , उन रोगीयों की मानसिक दशाओ की खोज का विषय मानते थे और उसी के परिणाम स्वरूप जो निष्कर्ष निकलते थे , उसी के अनुसार अपनी चिकित्सा का प्रयोग उस रोग का निदान करने मे करते थे । उन आचार्यों के स्वप्न विचार करने के कुछ उदाहरण देखें-
1.यदि रोगी सिर मुंडाएं ,लाल या काले वस्त्र धारण किए किसी स्त्री या पुरूश को सपने में देखता है या अंग भंग व्यक्ति को देखता है तो रोगी की दशा अच्छी नही है ।
2. यदि रोगी सपने मे किसी ऊँचे स्थान से गिरे या पानी में डूबे या गिर जाए तो समझे कि रोगी का रोग अभी और बढ़ सकता है।
3. यदि सपने में ऊंट,शेर या किसी जंगली जानवर की सवारी करे या उस से भयभीत हो तो समझे कि रोगी अभी किसी और रोग से भी ग्रस्त हो सकता है।
4. यदि रोगी सपने मे किसी ब्राह्मण,देवता राजा गाय,याचक या मित्र को देखे तो समझे कि रोगी जल्दी ही ठीक हो जाएगा ।
5.यदि कोई सपने मे उड़ता है तो इस का अभिप्राय यह लगाया जाता है कि रोगी या सपना देखने वाला चिन्ताओं से मुक्त हो गया है ।
6.यदि सपने मे कोई मास या अपनी प्राकृति के विरूध भोजन करता है तो ऐसा निरोगी व्यक्ति भी रोगी हो सकता है ।
7.यदि कोई सपने में साँप देखता है तो ऐसा व्यक्ति आने वाले समय मे परेशानी में पड़ सकता है ।या फिर मनौती आदि के पूरा ना करने पर ऐसे सपनें आ सकते हैं।

4 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

Pandit Ji sapne me Tiger dikhe to ?

बेनामी ने कहा…

सफलता और सहयोग मिलेगा

vip ने कहा…

sapne mai airoplane dikha nichi gire huye ek gar ke upar gira bagal mai ek purani emarat hai vo uske jhate se gir rshi us gar ke bal mai mera gar hai use kucha bhi nahi hu ishka matlab

ज्योतिषाचार्य पं.विनोद चौबे ने कहा…

vip जी स्प्न में यदि आप एरोप्लेन से गिरते हुए अथवा छत पर गिरने आदि का मतलब आप कोई लक्ष्य लेकर काम कर रहे हैं जिसमें आपको कुछ हि दिनों में सफलता मिलेगी.

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.