ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

बुधवार, 28 दिसंबर 2011

राजनीतिक लहलहाती फसल में अन्ना पौधा मुरझा गया...


राजनीतिक लहलहाती फसल में अन्ना पौधा मुरझा गया...

राजनीतिक लहलहाती फसल में अन्ना पौधा मुरझा गया।
लेकिन धूल से धूसरीत इस तूफान को, ओस नहीं कह सकते,
जब लगी थी लंका में आग तो रावणी मूंछ पर ताव आ गया।
लेकिन हश्र हुआ वही, जो विभीषण बयां नहीं कर सकते।।

अन्ना की आंधी में पानी है आग नहीं ,
जनता के महंगाई झाग से निकलेगी आग।
अब विषैली वाणी, देश सुन सकता नहीं,
राह बहुत कठिन राहुल अब से भी जाग।।

मैं आग हुं अन्ना नहीं, चुनाव का चंदा नहीं,
वोट की ओट में शहीदी-चितओं की राजनीति।
गर शर्म से बेशर्म लोकशाही शर्माती नहीं,
महंगे भ्रष्ट के चोट से, हो ग्रस्त-त्रस्त-अनीति।।

मत चुको राजतिलक से पारंपरीक युवराज,
मनीष की मचल चाल, दिग्गी का ढ़ाल।
मत चलो मदमस्त चाल, जनता का  है आगाज़,
जो आज है कल नहीं रहेगा, नहीं गलेगी तेरी दाल।।

चाहें जो हो रंग लाल, काला, हरा हो या पीला,
केसरीया का सशक्त रंग भगवा ही रहेगा।
होली के रंग में, भारत के अंग अंग में,
अल्हड़ का हो रंग हरा, काला भगवा ही रहेगा।।

-ज्योतिषाचार्य पं.विनोद चौबे , भिलाई दिनांक 28-12-2011

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.