ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

मंगलवार, 15 नवंबर 2011

......ये कवि, साहित्यकार या चाटुकार हैं...?

......ये कवि, साहित्यकार या चाटुकार हैं...?
 मुझे बड़ा दुःख के साथ कहना पड़ रहा है कि आज कुछ ऐसे कवि, व्यंगकार, पत्रकार, एवं साहित्यकार हैं जो केवल मात्र राजनेताओं को खुश करने कसिदें पढ़ कर इस प्रतिषठित ओहदे को हांसिये पर ढ़केलने का पुरजोर प्रयत्न कर रहे हैं अभी हाल में ही छत्तीसगढ़ के कुछ कियों नें पिछले दिनों नंदकुमार पटेल के जन्मदिन पर विज्ञापन के माध्यम से किसी कवि ने अपनी रचना छ.ग.के दुःख दर्द को अपने शब्दों में उक्त कवि ने प्रस्तुत किया था। वहां तक तो ठिक था क्योंकि कवि एवं साहित्यकार का यह धर्म है कि वह समाज के लोगों एवं सरकार को आगाह करे ता कि सरकार अपने नीतियों में अधिक से अधिक पारदर्शिता बरतें, वैसे तो कवि की रचनाएं प्रायः उनकी डायरीयों में ही शोभायमान रहती हैं कुछ प्रभावशाली कवि हैं जिनका समाचार पत्र पत्रिकाएं ईक्का दुक्का प्रकाशित कर देतें हैं कांग्रेस पार्टी या श्री पटेल जी के खर्चे से इसको प्रदेश के छोटे बड़े सभी समाचार पत्रों में प्रमुखता से प्रकाशित कराया गया। वहीं दूसरे दिन राज्य सरकार ने पटेल जी को करारा जवाब देते हुए छत्तीसगढ़ संवाद द्वारा जारी विज्ञापन सरकारी खर्चे से प्रकाशित हुआ था। ऐसे में इस प्रकरण को देखा जाय तो प्रथम दृष्टया नेतागिरी तंत्र ही दोषी नहीं बल्कि चाटूकार कवि एवं लेखक भी हैं। मित्रों यदि इसी प्रकार कवि, लेखक, पत्रकार, व्यंगकार, एवं साहित्यकारों को आप क्या कहेंगे..क्या ये कवि या साहित्य अथवा चाटूकार कहेंगे अब इसका जवाब आप ही चुन लें  । ज्योतिषाचार्य,पं.विनोद चौबे , भि,०९८२७१९८८२८

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.