ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

गुरुवार, 3 नवंबर 2011

मेडिकल साईंस के लिये चुनौती बना सिद्ध साईंस

         मिथलेश  ठाकुर
9827160789
मेडिकल साईंस के लिये चुनौती बना सिद्ध साईंस
0 मेडिकल साईंस के समाप्त होने पर उदय होता है सिद्ध साईंस
0 सिद्ध पद्धति और सिद्ध मार्ग दो रूपों में कार्य करता है सिद्ध साईंस
0 असाध्य से असाध्य रोगों से मिलती है निज़ात
0 बिखरी षक्तियों को समेटे आर्थिक परेषानियोें को भी दूर करने
में सहायक
है सिद्ध साईंस.

अपने अक्ष पर चक्कर लगाते लगाते इस पष्थ्वी ने कई घटनाओं को अपने
सीने में दफन कर लिया है लेकिन वो साईंस ही था जिसने पष्थ्वी पर आ रहे
बदलावों को समय समय पर आ रहे बदलावों को आम लोगों के समक्ष रखा
। इनके बीच धार्मिक आस्था से जुड़े चमत्कारों ने भी एक बड़े
वर्ग को अपने जोड़े रखा है । अपने अपने मतों में कायम यह दोनों
ही हमेषा से ही एक समन्दर के दो किनारे रहे हैं जो एक होकर भी
कभी मिल नहीं सके हैं ।

सिद्ध साईंस ने अब ब्रम्हाण के गर्भ में से ऐसी षक्ति को खोज निकाला
है जिसने सभी वर्गों को संतुश्ट कर विज्ञान और आध्यात्म के बीच
की कड़ी को जोड़ दिया है । सिद्ध साईंस ने देष में चमत्कारों
के कई उदाहरण पेष किये है जिससे हर व्यक्ति का सिर इस साईंस के आगे
नतमस्तक हो गया है । भगवान सिद्धेष्वर की कष्पाओं से उदय हुऐ इस
साईंस का मकसद जनकल्याण का है जो सिद्ध पद्धति और सिद्ध मार्ग दो तरह से
कार्य करता है । सिद्ध साईंस मेडिकल साईंस के समाप्त होने के बाद कार्य
करता है जिससे तमाम षारिरिक कश्टों और बीमारियों से निजात मिलती है

। ये एक ऐसी षक्ति है जो बगैर किसी दवाईयों या चिकित्सकीय उपकरणों
के बिना बिखरी हुई षक्तियों को एक स्थान पर केंद्रीत कर पीड़ित का
ईलाज करता है । वहीं सिद्ध मार्ग आर्थिक, सामाजिक, मानसिक और कार्य
क्षेत्र में बाधा पहुॅचाने वाली समस्त रूकावटों को दूर कर प्रगति का
मार्ग प्रषस्त करता है । नित नये नये चमत्कार कर ये साईंस आज एक सूर्य की
रौषनी की तरह सारे जग को रौषन कर रहा ताकि अॅधकार का विनाष हो
और समाज स्वच्छ सुंदर और स्वस्थ्य रह सके ।
मिथलेश  ठाकुर
9827160789

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.