ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

बुधवार, 24 अगस्त 2011

बेहतर सोच ही .. आपको मंजिल तक पहुँचा सकती है

बेहतर सोच ही .. आपको मंजिल तक पहुँचा सकती है
पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम जी ने कहा है कि जागती आँखों से सपने देखो, सपने नहीं देखोगे तो पूरा कैसे करोगे लेकिन सिर्फ सपने देखना पर्याप्त नहीं वरन उन्हे पूरा करने के लिए प्रयास बहुत जरूरी है।

आंखों पर काला चश्मा लगाकर देखोगे तो सारी चीजें काली दिखायी देंगी। कोई भी व्यक्ति जन्म से महान नहीं होता वरन उसके कर्म उसे महान बनाते हैं। कुछ शरारती बच्चों ने एक बुजुर्ग को छेडऩे की नियति से कहा बाबा ये वो ही गाँव है  जहाँ महान लोग पैदा हुए। बुजुर्ग ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया कि बेटा वो वही गाँव है। लेकिन यहाँ कोई महान पैदा नहीं हुआ यहाँ तो बच्चे पैदा होते हैं और वो अपने कर्मों से महान बनते हैं। कहानी का सार बच्चे स्वयं समझ गये होंगे...
व्यक्ति जब पैदा होता है तो दो हाथ दो पैर एक सर (दिमाग) लेकर, बस वो उनका उपयोग कैसे करता है। यह महत्वपूर्ण है।
1. कठिन परिश्रम से ज्यादा जरूरी है। सही दिशा में कठिन परिश्रम।
2. अब हार्ड वर्क आपको सफलता नहीं दिला सकता अब जरूरत है। स्मार्ट वर्क की।
3. समय के साथ परिवर्तन आवश्यक है। क्योंकि परिवर्तन आवश्यक है। क्योंकि परिवर्तन ही संसार का नियम है।
4. रात कितनी भी काली गहरी अंधेरी क्यों न हो सबेरा अवश्य होता है।
5. किसी को भला समझना बहुत अच्छी बात है। परन्तु भोला समझना बेवकूफी।
6. अपने आपको ऐसा बनाओ कि लोग आपकी तरफ स्वयं खिंचे हुए चले आयें न कि आप लोगों की तरफ।
7. दूसरे की शिकायत करना बहुत आसान है। शिकायत करने से के अपने स्वभाव को त्याग करें।
अरे यार लाइट नहीं है, सरकार कुछ करती नहीं, सड़कों में बहुत गड्ढे हैं । इस तरह की शिकायत करते चारों तरफ बहुत से लोग पाये जाते हैं। परन्तु कभी भी यह नहीं सोचते कि उस गन्दगी को फैलाया किसने।
एक सकारात्मक रवैया आपकी जिन्दगी ही नही वरन एक बेहतर शुरूआत की नवीं भी रखेगा।
हमें कुछ बेहतर करने के लिए आवश्यक है कि पहले अपे आप में सुधार करें। बाद में दुनिया बदलें। पहले अपने अन्दर झाँक कर देखें कि शर्ट के अन्दर बनियान है भी कि नहीं फिर दूसरे के शर्ट के अन्दर झाकें।

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.