ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

गुरुवार, 10 अगस्त 2017

शय्या पर सोये भाग्य को जगाने का मंत्र है 'चरैवेति ! चरैवेति !!'

वैदिक ऋषियों की तरह लोकमंगल के लिए निरन्तर चलते रहने का शिवसंकल्प ही 'चरैवेति! चरैवेति!!' है। इस संकल्प की अवधारणा और उसकी चरम परिणति ही जीवन का शाश्वत उद्देश्य है। यह जीवन समाज से मिला है और समाज के काम आ जाय, तो इससे बढ़कर जीवन की कोई दूसरी सार्थकता हो ही नहीं सकती। समय की शिला पर टंकित संघर्ष के स्वर्णाक्षर से निर्मित अभिलेखों को स्मृति की अक्षय मंजूषा में सँजोकर रखने का कार्य प्रत्येक मनुष्य करता है, किन्तु ऐसे लोग कम ही होते हैं, जो संघर्षजनित सफलता की वर्णमाला को सार्वजनिक करके समाज के प्रत्येक व्यक्ति को सीखने का अवसर प्रदान करें। राम नाईक जी ने अपने जीवन को अनुकरणीय और प्रेरक बनाया है। उनके जीवन से सकारात्मक प्रेरणा के मन्त्र प्रतिध्वनित होते हैं। वस्तुतः ऐसा इसलिए है कि उन्होंने वैदिक ऋषियों की शीतल छाँव में विश्राम किया है। इसका संकेत करते हुए वे लिखते हैं- 'प्राचीन वाड़्मय की सूक्तियों में जीवन के लिए उपयुक्त दर्शन बताया गया है। ऐतरेय की सूक्तियों में एक जगह उल्लेख है कि राजा को आत्मोन्नति का बोध कराने के लिए इन्द्र देवता ने मनुष्य का रूप धारण किया था। अच्छे भाग्य का अधिकारी बनने के लिए सतत चलते रहने का उपदेश देते हुए इन्द्र कहते हैं-

आस्ते भग आसीनस्य
उर्ध्वम् तिष्ठति तिष्ठतः
शेते निपद्य मानस्य
चराति चरतो भगः! चरैवेति चरैवेति!!

बैठे हुए व्यक्ति का भाग्य भी बैठ जाता है
खड़े हुए व्यक्ति का भाग्य भी वृद्धि की ओर उन्मुख होता है
सो रहे व्यक्ति का भाग्य भी सो जाता है
किन्तु चलनेवाले का भाग्य प्रतिदिन बढ़ता जाता है,
अतः तुम चलते रहो! चलते रहो!!

उदाहरण के रूप में इन्द्र आगे बताते हैं,

चरन्वै मधुविन्दति
चरन्स्वादुमुदुम्बरम्
सूर्यस्य पश्य श्रेमाणं यो न तन्द्रयते चरंश्
चरैवेति! चरैवेति!!

मधुमक्खियाँ घूम घूमकर शहद जमा करती हैं।
पक्षी मीठे फल खाने के लिए सदा भ्रमण करते रहते हैं।
सूरज कभी सोता नहीं, चलता रहता है। इसलिए जगद् वन्दनीय है।
अतः हे मानव, तुम भी चलते रहो! चलते रहो!!'
ज्योतिषाचार्य पण्डित विनोद चौबे, संपादक- 'ज्योतिष का सूर्य' मासिक पत्रिका
भिलाई

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.