ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

गुरुवार, 29 सितंबर 2011

जय माँ बमलेश्वरी

जय माँ बमलेश्वरी
जय माँ बमलेश्वरी
तोला सुमरंव बारम्बार हो,
मोर देवी भवानी, जय होवय तोर,
मोर माता भवानी,जय होवय तोर।
तोर लीला अपरंपार हो,
जय मां बम्लेश्वरी जय होवय तोर,
टीप पहाड़ म तोर मंदिरवा,
दिखय चारों ओर।
मोर माता भवानी जय होवय तोर।

शेर चिता ह तोर सवारी
घूमय, जंगल जंगल मोर हो,
देवी भवानी जय होवय तोर।
नाक म नथनी पहिरे
पांव म पायल घुँघरू
हाथ म लाली चूरी सोहय
ओढ़े लाल के चुनरी हो,
मोर माता भवानी, जय होवय तोर।

तोर होवय जय जयकार हो,
मोर मां बमलेश्वरी जय होवय तोर
लइका सियान, सब तरसंय
तोर दरस बर हो मोर माता भवानी,
दीन, दुखियारी के दुख हरस,
देवय पुत्र-वरदान हो,
तोर दुवारी ले कोई खाली नइ जावय
बढ़य धन भंडार हो,
मोर माता भवानी, जय होवय तोर।
जय मां बमलेसरी मइया जय होवय तोर।

चइत नवमी म मेला भरथे
जलावय घी के जोत हो,
मोर माता भवानी, जय होवय तोर।
मनवांछित फल पाये हो,
अन्न-धन भंडार बढ़ावय हो,
मोर जय मां बमलेश्वरी जय होवय तोर।
तोर मंदिर म कोई भेदभाव नइये।
पहुंचय लाखों लोग हो।
मोर माता भवानी, जय होवय तोर।
मोर जय मां बमलेश्वरी जय होवय तोर।

-डॉ. जे. आर. सोनी ला उधार मांगे हौं भैय्या ...बड़ सुघ्घर लागीस मोला

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.