ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

रविवार, 18 सितंबर 2011

2009 से निरंतर २६ वां अंक '' ज्योतिष का सूर्य ''

2009 से निरंतर २६ वां अंक '' ज्योतिष का सूर्य '' इस बार दीपावली विशेषांक के रूप में नये साज-सज्जा के साथ दिल्ली, छत्तीसगढ़, झारखंड, उ.प्र, एवं मध्य प्रदेश के १००४ अधिकृत बुकस्टॉलों पर उपलब्ध। यह आवरण पृष्ठ प्रस्तुत है..
हिन्दी मेरी पहचान है...सम्पादकीय
भाषा न केवल अभिव्यक्ति का एक माध्यम है बल्कि वह चिंतन को भी प्रभावित करती है। उसके साथ उसके बोलने वालों की संस्कृति और संस्कार भी जुडे होते हैं। भाषा केवल मस्तिष्क को झकझोरनेवाली ही नहीं, वरन हृदय को छूनेवाली भी होती है और यह ताकत अपनी मातृभाषा और राष्ट्रभाषा में विशेष रूप से होती है।
हमारे देश में अनेक भाषाएं हैं और सबकी अपनी-अपनी समृद्ध संस्कृति और परंपराएं हैं। लेकिन इसके बावजूद हमारा अतीत एक है, अतीत के हमारे अनुभव एक हैं तथा हमारा चिंतन एक है। राष्ट्रीय स्वाभिमान और स्वतंत्रता की लडाई में पूरे भारत ने एकजुट होकर भाग लिया था। अंग्रेजी दासता का अनुभव पूरे भारत को एक जैसा है। कश्मीर से कन्याकुमारी तक का संपूर्ण भारत हमेशा एक जैसे विचारों और भावनाओं से आंदोलित रहा है। सभ्यता और संस्कृति के आरंभिक काल से ही इस एक से चिंतन ने पूरे देश में एक सी संवेदनाओं को जन्म दिया है। तभी तो उत्तर भारत में रचित वेदों के भाव ज्यों के त्यों दक्षिण में रचित तिरुक्कुरल के भावों से मिल जाते हैं। नरसी मेहता, नामदेव, संत तुकाराम, एकनाथ, कबीर, सूर, मीरा, तुलसी, गुरुनानक, शंकरदेव, चैतन्य महाप्रभु आदि संतों की शिक्षाएँ स्थानविभेद होने पर भी भाव साम्य रखती हैं। इसीलिए हमें एक ऐसी भाषा की आवश्यकता है, जो हमारे इस ऐक्य को एक भाषा में व्यक्त कर सके। अपनी विशिष्ट ऐतिहासिक और सांस्कृतिक पृष्ठभूमि के कारण हिंदी ही वह भाषा हो सकती है।
किसी भी संप्रभु व लोकतांत्रिक देश की एक राष्ट्र मुद्रा, एक राष्ट्रगान, एक राष्ट्रध्वज व एक राष्ट्र्रभाषा होती है। भारत अनेक भाषाभाषी लोगों का देश है और सभी की अपनी-अपनी समृद्ध संस्कृति व परम्पराएं हैं। अत: संवैधानिक रूप से देश की भाषाओं को राष्ट्रीय भाषाओं का सम्मान प्राप्त है। इन सबके बीच सम्पर्क और सामंजस्य स्थापित करने हेतु हिंदी को राजभाषा घोषित किया गया। हिंदी को सम्पर्क राजभाषा घोषित करने का सीधा और सरल सा कारण यह था कि देश में इस भाषा को बोलने और समझने वाले सबसे अधिक थे। आज देश के दो तिहाई राज्यों में सत्रह बोलियों के रूप में हिंदी का विस्तार है। हिंदी भारत में सबसे अधिक बोली व समझी जाने वाली तथा विश्व में सर्वाधिक लोगों द्वारा बोली व समझी जानेवाली तीसरी बड़ी भाषा है। इसे दुनिया भर में एक अरब से अधिक लोग जानते, पढ़ते, समझते और बोलते हैं।
स्वतंत्र भारत की बागडोर संभालने वाले नेताओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे गृहमंत्री पी चिंदबरम ने राजभाषा विभाग द्वारा हिन्दी दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में  किसी सार्वजनिक मंच पर लोगों को पहली बार हिन्दी में सम्बोधित किया। माना जाता है  कि तमिल भाषी चिदंबरम को हिन्दी बोलने में कठिनाई होती है। परंतु हिन्दी के उत्थान के लिहाज से देखा जाये तो इस प्रकार के अंग्रेजियत के पुजारी नेताओं पर शर्म आती है। जो हिन्दी के उत्थान की बात करते हों लेकिन उन्हे हिन्दी बोलना नहीं आता है। आस्ट्रेलिया से पढ़ाई कर स्वदेश लौटे महात्मा गांधी  की मुलाकात गोपालकृष्ण गोखले जी से हुई और उन्होने गोपालकृष्ण गोखले जी को अपना आदर्श और गुरू मानते हुए। देश के आजादी की लड़ाई में सम्मिलित हो गए लेकिन उन्होने कभी अंग्रेजी में सम्बोधन नहीं किया बल्कि ब्रिटिश अधिकारियों से उनकी बात अंग्रेजी में ही होती थी।
हिंदी के मामले में ढुलमुल नीति अपनाते हुए उपनिवेशवादी मानसिकता रखने वाले अंग्रेजीपरस्त राजनेताओं की पश्चिमी जीवनशैली व सोच के दबाव में 10 वर्षों के लिए अंग्रेजी को हिंदी की स्थानापन्न भाषा घोषित कर दिया गया। परिणाम यह हुआ कि हिंदी को एकमेव राजभाषा बनाने का मुद्दा भाषावादी व प्रांतवादी राजनीति में उलझ गया और चौसठ वर्ष बीत जाने पर भी हिंदी अपना गौरवपूर्ण स्थान प्राप्त नहीं कर पाई।
किसी भी भाषा का विकास उसको व्यवहार में लाने से होता है। भाषा को व्यवहार में लाने का काम जनता करती है। अत: हिंदी को सही अर्थों में राजभाषा बनाने का कार्य सरकार, विश्वविद्यालयों, लेखकों, पत्रकारों व चंद हिंदी प्रेमी बुद्धिजीवियों से अधिक हम सबका है। राष्ट्रीय गौरव व अस्मिता का मुद्दा मानकर हिंदी के लिए जनमानस में आंदोलन का भाव आना चाहिए।
प्रिय पाठकों , शुभ नवरात्रि एवं दीपावली की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ मैं आपसे आग्रह करता हूँ कि आप सहित मित्रों के साथ हिन्दू, हिन्दी और भारतीय संस्कृति पर बतौर आंदोलित मन: स्थिति के साथ सदैव इस दिशा में प्रयास जारी रखें। ताकि अपने भारतीय संस्कृति के साथ राष्ट्रभाषा का दर्जा प्राप्त हिन्दी की रक्षा हो सके।
जय हिन्द.. जय भारत...

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.