ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

गुरुवार, 29 सितंबर 2011

मां सीता ने मुंगेर में किया था छठ

 मां सीता ने मुंगेर में किया था छठ
ऐतिहासिक नगरी मुंगेर के सीता चरणमें कभी मां सीता ने छह दिनों तक रह कर छठ पूजा की थी। इससे यह स्थल अध्यात्मिक आस्था से जुडी है। सीता चरण में आज भी दो पश्चिम एवं पूरब मुख में माता सीता के पदचिन्हअंकित हैं।
जाने-माने इतिहासकार डा. ग्रियेसन ने इस पदचिन्ह एवं जनकपुर में स्थित पदचिन्ह का भी मिलान किया था। जिसमें दोनों पदचिन्ह एक समान मिले। इसके बाद तो इसकी और महत्ता बढ गयी। छठ पूजा के दिन में यहां श्रद्धालुओं की भीड उमडती है। बीच गंगा में अवस्थित इस मंदिर को अगर प्रशासन संवार दें तो देश के मानचित्र पर सीता चरण का नाम होगा।
पौराणिक कथाओं के अनुसार 14वर्ष वनवास के बाद जब भगवान राम अयोध्या लौटे थे तो रावण वध के पाप से मुक्त होने के लिए ऋषि-मुनियों के आदेश पर राजसूर्ययज्ञ करने का फैसला लिया। इसके लिए मुगदलऋषि को आमंत्रण दिया गया था, लेकिन मुगदलऋषि ने भगवान राम एवं सीता को अपने ही आश्रम में आने का आदेश दिया। ऋषि की आज्ञा पर भगवान राम एवं सीता माता स्वयं यहां आये और इसके पूजा पाठ के बारे में बताया गया।

मुगदलऋषि ने मां सीता को गंगा छिडक कर पवित्र किया एवं कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष षष्ठी तिथि को सूर्यदेव की उपासना करने का आदेश दिया। यहीं रह कर माता सीता ने छह दिनों तक सूर्यदेव भगवान की पूजा की थी। जिस स्थान पर माता सीता ने पूरब और पश्चिम मुख होकर अराधना की। उस स्थान पर आज भी माता सीता के पैरों के निशान हैं। उसके बाद से यह स्थल सीता चरणके नाम से जाने जाने लगा। यह स्थल गंगा के मध्य पहाडी पर स्थित है। बाद में इसे राम बाबा नामक धर्मप्रेमी ने मंदिर का रूप दिया। गंगा में पानी नहीं रहने के बाद मंदिर पर आसानी से लोग पूजा करने जाते हैं, लेकिन बाढ के दिनों में यह मंदिर गंगा के बीच में हो जाता है।
ज्योतिषाचार्य पं.विनोद चौबे , भिलाई -०९827198828

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.