ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

सोमवार, 31 अक्तूबर 2016

" भाई दूज पर यम, यमुना एवं सनातन संस्कृति में बंधता पूरा विश्व"

वैसे तो सनातन संस्कृति समग्र विश्व की ऐसी विशालतम् और सहिष्णु संस्कृति है, जिसका आदर व सम्मान भारत के इतर पूरे विश्व को भी करना ही पड़ता है, मुझे बहुत प्रसन्नता हुयी जब बराक ओबामा ने व्हाईट हाऊस में विश्व को शांति का संदेश देते हुये बराक ने दीप प्रज्वलित किया और संयुक्त राष्ट्र्भवन के इलेक्ट्रीक वॉल पट्टिका पर "शुभ दीपावली" का संदेश दिया गया। हमें गर्व होता है "सनातन संस्कृति " पर । शर्म भी आता हा भारत के विपक्षी पार्टी कांग्रेस की सड़ांध, और बदबुदार तथा घिनौनी राजनीति पर जहां मध्य प्रदेश में आठ आतंकियों के मारे जाने पर "दिग्विजय सिंह" जांच की मांग करते हैं। ये वही दिग्गी राजा हैं जिन्होंने "भगवा आतंक" शब्द का पहली बार देश में प्रयोग किया जिसको पी. चिदम्बरम ने आगे बढाया। लेकिन उसी भगवा के विचार-सूत्रों ने विश्व में इतनी गहरी पैठ बनाने में सफल रही है कि उसका परिणाम अमेरिका के व्हाईट हाऊस तथा संयुक्त राष्ट्र भवन की वॉल पट्टिका पर दीपावली के दिन देखने को मिला! ऐसा इसलिये संभव हो पाता है क्योंकि "सनातन संस्कृति " उत्कृष्ट संस्कृति है, अब देखिये ना रक्षा बंधन पर बहन की रक्षा के लिये भाई संकल्प लेता है तो भाई दूज पर भाई के रक्षार्थ बहन संकल्प लेकर ईश प्रार्थना करती हैं, ऐसा केवल "सनातन संस्कृति " में ही संभव है। आईये ऐसी एक पौराणिक कथा " भाई दूज पर यम, यमुना एवं सनातन संस्कृति में बंधता पूरा विश्व" के आलेख में अवश्य पढें।
-ज्योतिषाचार्य पण्डित विनोद चौबे, रावण संहिता विशेषज्ञ एवं संपादक "ज्योतिष का सूर्य" राष्ट्रीय मासिक पत्रिका, शांतिनगर, भिलाई
आईये सर्वप्रथम आप लोगों को भाई दूज के पावन पवित्र अवसर पर ढेर सारी शुभकामनाएं ।।
भिलाई मे भाई दूज का समय (मुहूर्त) है दिन में 1 : 35 से 3:57 तक है इस दौरान बहने अपने भाई को टीका लगाकर भाई के दीर्घायु की कामना करें......
भाई दूज का त्योहार भाई बहन के स्नेह को सुदृढ़ करता है।यह त्योहार दीवाली के दो दिन बाद मनाया जाता है।
हिन्दू धर्म में भाई-बहन के स्नेह-प्रतीक दो त्योहार मनाये जाते हैं - एक रक्षाबंधन जो श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इसमें भाई बहन की रक्षा करने की प्रतिज्ञा करता है। दूसरा त्योहार, 'भाई दूज' का होता है। इसमें बहनें भाई की लम्बी आयु की प्रार्थना करती हैं। भाई दूज का त्योहार कार्तिक मास की द्वितीया को मनाया जाता है।
भैया दूज को भ्रातृ द्वितीया भी कहते हैं। इस पर्व का प्रमुख लक्ष्य भाई तथा बहन के पावन संबंध व प्रेमभाव की स्थापना करना है। इस दिन बहनें बेरी पूजन भी करती हैं। इस दिन बहनें भाइयों के स्वस्थ तथा दीर्घायु होने की मंगल कामना करके तिलक लगाती हैं। इस दिन बहनें भाइयों को तेल मलकर गंगा यमुना में स्नान भी कराती हैं। यदि गंगा यमुना में नहीं नहाया जा सके तो भाई को बहन के घर नहाना चाहिए।
यदि बहन अपने हाथ से भाई को जीमाए तो भाई की उम्र बढ़ती है और जीवन के कष्ट दूर होते हैं। इस दिन चाहिए कि बहनें भाइयों को चावल खिलाएं। इस दिन बहन के घर भोजन करने का विशेष महत्व है। बहन चचेरी अथवा ममेरी कोई भी हो सकती है। यदि कोई बहन न हो तो गाय, नदी आदि स्त्रीत्व पदार्थ का ध्यान करके अथवा उसके समीप बैठ कर भोजन कर लेना भी शुभ माना जाता है।
इस दिन गोधन कूटने की प्रथा भी है। गोबर की मानव मूर्ति बना कर छाती पर ईंट रखकर स्त्रियां उसे मूसलों से तोड़ती हैं। स्त्रियां घर-घर जाकर चना, गूम तथा भटकैया चराव कर जिव्हा को भटकैया के कांटे से दागती भी हैं। दोपहर पर्यन्त यह सब करके बहन भाई पूजा विधान से इस पर्व को प्रसन्नता से मनाते हैं। इस दिन यमराज तथा यमुना जी के पूजन का विशेष महत्व है।
कथा भाई दूज की:
भगवान सूर्य नारायण की पत्नी का नाम छाया था। उनकी कोख से यमराज तथा यमुना का जन्म हुआ था। यमुना यमराज से बड़ा स्नेह करती थी। वह उससे बराबर निवेदन करती कि इष्ट मित्रों सहित उसके घर आकर भोजन करो। अपने कार्य में व्यस्त यमराज बात को टालता रहा। कार्तिक शुक्ल द्वितिया का दिन आया। यमुना ने उस दिन फिर यमराज को भोजन के लिए निमंत्रण देकर, उसे अपने घर आने के लिए वचनबद्ध कर लिया।
यमराज ने सोचा कि मैं तो प्राणों को हरने वाला हूं। मुझे कोई भी अपने घर नहीं बुलाना चाहता। बहन जिस सद्भावना से मुझे बुला रही है, उसका पालन करना मेरा धर्म है। बहन के घर आते समय यमराज ने नरक निवास करने वाले जीवों को मुक्त कर दिया। यमराज को अपने घर आया देखकर यमुना की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उसने स्नान कर पूजन करके व्यंजन परोसकर भोजन कराया। यमुना द्वारा किए गए आतिथ्य से यमराज ने प्रसन्न होकर बहन को वर मांगने का आदेश दिया।
यमुना ने कहा कि भद्र! आप प्रति वर्ष इसी दिन मेरे घर आया करो। मेरी तरह जो बहन इस दिन अपने भाई को आदर सत्कार करके टीका करे, उसे तुम्हारा भय न रहे। यमराज ने तथास्तु कहकर यमुना को अमूल्य वस्त्राभूषण देकर यमलोक की राह की। इसी दिन से पर्व की परम्परा बनी। ऐसी मान्यता है कि जो आतिथ्य स्वीकार करते हैं, उन्हें यम का भय नहीं रहता।
-ज्योतिषाचार्य पण्डित विनोद चौबे, रावण संहिता विशेषज्ञ एवं संपादक " ज्योतिष का सूर्य " राष्ट्रीय मासिक पत्रिका, हाऊस नं. 1299, सड़क- 26, कोहका मेन रोड,  शांतिनगर, भिलाई, जिला - दुर्ग, (छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.