ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

रविवार, 6 नवंबर 2016

....यह एक ऐसी जीवनगाथा जो देती है सच्ची प्रेरणा…...तो एक बार अवश्य पढ़कर मनन करें..




....यह एक ऐसी जीवनगाथा जो देती है सच्ची प्रेरणा…...तो एक बार अवश्य पढ़कर मनन करें........
आदरणीय प्रकाश केलकर जी को नमन करते हुए उनके इस सोच ने ना केवल हमें प्रेरणा देने का काम किया है बल्कि शासकीय धन का दुरूपयोग करने वाले अधिकारी, कर्मचारी तथा घोटालेबाज नेताओं को "त्याग" का अहसास कराता है।
...बिना पत्नि कथम् धर्म:..... बिना पत्नि के कोई धर्म, दान आदि का कार्य सफल नहीं होता...पण्डित विनोद चौबे, भिलाई के अनुसार सनातन धर्म ग्रंथों में "दान" का विशेष महत्त्व है। दान करते समय पत्नि का सहभागिता भी आवश्यक है।
पुणे निवासी आदरणीय प्रकाश जी केलकर की पत्नि की भी स्विकृति है...आगे पढिये पूरी स्टोरी
जीवनके आखिरी दिन सुकून से गुजरे इसके लिए हर आदमी सारी जिंदगी पैसा कमाता है। सारी उम्र यही पुणे के 73 साल के प्रकाश केलकर ने भी किया। लेकिन अब उन्होंने अपनी सारी कमाई जवानों, किसानों और कुछ एनजीओ को देने का फैसला किया है।
इसके लिए एक करोड़ रुपए की वसीयत भी तैयार कराई है। इसमेंं कमाई के दान का विवरण दर्ज है। उनकी इस वसीयत में उनकी पत्नि की भी सहमति है। प्रकाश केलकर का वसीयत के संबंध में कहना है कि वे कपड़ा व्यवसाय करते रहे हैं। इस दौरान कपास खरीदी के लिए उन्हें गांवों में जाना पड़ता था। जहां उन्होंने किसानों की समस्याओं को निकट से देखा था। उनका शोषण भी होते देखा था। अब जीवन के अंतिम समय में उन्हीं बातों को याद करके अपनी पूरी कमाई को दान करने का निर्णय किया है।
यह पैसा किसानों,जवानों के सहयोग के लिए खर्च होगा। प्रकाश की वसीयत के मुताबिक उनकी मौत के बाद एक करोड़ रुपए में से 30 फीसदी हिस्सा प्रधानमंत्री राहत कोष और 30 फीसदी हिस्सा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री राहत कोष में जाएगा। 30 फीसदी हिस्सा जवान और किसानों की मदद में खर्च होगा। जबकि 10 फीसदी हिस्सा एनजीओ को दिया जाएगा। 
मां से मिली प्रेरणा
प्रकाशकी मां समाजसेवा करना चाहती थी मां के हाथ जब भी पैसा आता तो वो गरीबों के लिए, समाज के लिए खर्च करती थी प्रकाश के पिता नाना केलकर पुरो जमाने के जानेमाने चित्रकार थे प्रकाश की प|ी दीपा हाउसवाइफ है, समाजकार्य मे लगी रहती है प्रकाश की दो विवाहित बेटियां है, एक पुणे मे तो दूसरी अमेरिका मे सेटल है प्रकाश ने बताया, समाजकार्य की प्रेरणा मां से मिली मेरी मां हमेशा गरीबों के बारें मे सोचती थी प्रत्येक गरीब को हर रोज दो वक्त की रोटी मिले ये उनकी विचारधारा थी 
झोपड़पट्‌टी के कंपाउंडर
प्रकाशकेलकर का कहना है कि वे अपना बाकी जीवन समाजसेवा करते हुए गुजारेंगे। कभी पुणे के चौराहों पर ट्रैफिक कंट्रोल तो कभी झुग्गी में बच्चों को पढ़ाने चले जाते हैं। यहां के लोगों को वे दवाइयां भी मुहैया कराते रहते हैं। लोग उन्हें झोपड़ पट्टी का कंपाउंडर के नाम से जानते हैं।
- ज्योतिषाचार्य पण्डित विनोद चौबे, शांतिनगर, भिलाई

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.