ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

गुरुवार, 8 सितंबर 2011

छत्तीसगढ़ राज्य सरकार संस्कृत के विषय में कितना गंभीर

छत्तीसगढ़ राज्य सरकार संस्कृत के विषय में कितना गंभीर
मित्रों कल मैं.. छत्तीसगढ़ विधान सभा के अध्यक्षीय दीर्घा में बैठा था । वहां महंत  जी ने संस्कृत पर अपनी मांग रखते हुए विधान सभा अध्यक्ष जी से कहा कि छत्तीसगढ़ में प्रत्येक जिलों में संस्कृत विद्यालय खोलने की बात कही जा रही है लेकिन इन संस्कृत विद्यालय के छात्र पढ़ कर निकलने के बाद करेंगे क्या...इन संस्कृत के छात्रों को बतौर प्रथमिकता के आधार पर प्रदेश के सभी स्कूल व कालेजों में संस्कृत विषय पढ़ने के लिए पो रहे नियुक्ति में इनको प्राथमिकता देना चाहिए..
लेकिन उनके इस मांग को सम्बंधित मंत्री ब्रृजमोहन अग्रवाल ने गम्भीरता से लिया लेकिन  पंचायत ग्राम विकास मंत्री रामविचार नेताम ने मजाक के तौर पर लेकर कोई तवज्जों नही दिया वहीं बाद मे पुर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने भी महंत श्यामसुन्दर दास जी का समर्थन किया।
ज्ञात हो कि विधान सभा परिसर में  साँची के स्थान पर देवभोग के नामाकरण के कार्यक्रम में मान.मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कामधेनु विश्व विद्यालय खोले जाने का घोषणा भी कर दिये लेकिन संस्कृत विश्व विद्यालय के बारे मे तो दूर अभी -अभी कुछ दिन पूर्व संस्कृत शिक्षा बोर्ड के चेयर मेंन की नियुक्ति हुयी है इसके पहले सचिव डॉ.सुरेश शर्मा जी ही कार्य-भार देखते थे।
ऐसे मे सवाल यह उठता है कि राज्य सरकार संस्कृत के विषय में कितना गंभीर है।
सरकार द्वारा दूध, दही आदि को गो-पालन की संजीदगी दिखाते हुए राज्य में कामधेनु विश्वविद्यालय खोलना स्वागतेय है परन्तु संस्कृत के प्रति ऐसे ही कठोर कदम उठाए जाना बेहद आवश्यक है।

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.