ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

रविवार, 19 जून 2011

'एको हि रुद्रः/ (3/2) 'स... शिव :

'एको हि रुद्रः/ (3/2) 'स... शिव :
वेद की ऋचाएँ परब्रह्म की सत्ता को स्पष्ट करती हैं। वेदों में ईश्वरभक्ति के विषय में जो मंत्र विद्यमान है, वे इतने सारगर्भित तथा रसयुक्त हैैं कि उनसे बढ़कर भक्ति का सोपान अन्यत्र मिलना कठिन है। ईश्वर-भक्ति के सुगंधित पुष्प वेद के प्रत्येक मंत्र में विराजमान हैं जो अपने प्राण की सुगंध से स्वाध्यायशील व्यक्तियों के हृदय को सुवासित कर देते हैं।

श्वेताश्वतरोपनिषद में परम कल्याणकारी भगवान शिव के कल्याणकारी स्वरूप का विशद वर्णन है। इसमें इन्हें परब्रह्म अथवा 'रुद्र' कहा गया है। इस उपनिषद में 'ब्रह्म' के संबंध में जिज्ञासा उठाई गई है कि जगत का कारण जो ब्रह्म है, वह कौन है?

'किं कारणं ब्रह्म' (1/1)

श्रुति ने आगे चलकर इस ब्रह्म शब्द के स्थान पर 'रुद्र' और 'शिव' शब्द का प्रयोग किया है।

'एको हि रुद्रः/ (3/2) 'स... शिव : ॥ (3-11) समाधान में बताया गया है कि जगत का कारण स्वभाव आदि न होकर स्वयं भगवान शिव ही इसके अभिन्ना निमित्तोपादान कारण है। हालाँकि अवतारवाद को वेदों के विपरीत या अलग माना गया है परंतु वेदों का निचोड़ रखने वाले उपनिषद में यह वर्णन भगवान 'शिव' की ओर ही इंगित करता है।

एको हि रुद्रो न द्वितीयाय तस्थु
य इमाँल्लोकानीशत ईशनीभि :
(श्वेताश्वतरोपनिषद 3/2)

अर्थात जो अपनी शासन/ शक्तियों द्वारा लोकों पर शासन करते हैं, वे रुद्र भगवान एक ही हैं। इसलिए विद्वानों ने जगत के कारण के रूप में किसी अन्य का आश्रयण नहीं किया है। वे प्रत्येक जीव के भीतर स्थित हैं। समस्त जीवों का निर्माण कर पालन करते हैं। प्रलय में सबको समेट भी लेते हैं।

इस तरह 'शिव' और 'रुद्र' ब्रह्म के पर्यायवाची हैं। 'शिव' को रुद्र भी इसीलिए कहा गया है क्योंकि वे अपने उपासकों के सामने अपना रूप शीघ्र ही प्रकट कर देते हैं। शिवतत्व तो एक ही है- 'एकमेवाद्वितीयं ब्रह्म। परंतु उनके नाम अनेक हैं और रूप भी अनेक हैं।

शुक्ल यजुर्वेद संहिता के अंतर्गत रूद्राष्टाध्यायी के रूप में भगवान 'रुद्र' का विशद वर्णन है। भक्तगण इस रुद्राष्टाध्यायी के मंत्र के पाठ के साथ जल, दुग्ध, पंचामृत, आम्ररस, इक्षुरस, नारिकेल रस, गंगाजल आदि से शिवलिंग का अभिषेक करते हैं।

भूतभावन भगवान सदाशिव की प्रसन्नता के लिए इस सूक्त के पाठ का विशेष महत्व बताया गया है। पूजा में भगवान शंकर को सबसे प्रिय जलधारा है। इसलिए भगवान शिव के पूजन में सहस्राभिषेक, रुद्राभिषेक की परंपरा है। रुद्राभिषेक के अंतर्गत रुद्राष्टाध्यायी के पाठ में ग्यारह बार इससूक्त की आवृत्ति करने पर पूर्ण रुद्राभिषेक माना जाता है। यह 'रुद्र सूक्त' आध्यात्मिक, आधिदैहिक एवं आधिभौतिक त्रिविध तापों से मुक्त करने तथा अमरतत्व की ओर अग्रसर करने का अन्यतम उपाय है। 'ॐ नमस्ते रुद्र मन्यव उतो त इषवे नमः' से इसका प्रारंभ होता है।

रुद्र सूक्त में भगवान रुद्र के विविध स्वरूप वर्णित हैं यथा गिरीश, अधिवक्ता, सुमंगल, नीलग्रीव सहस्राक्ष आदि।

शिवपुराण की शतरुद्र संहिता के अनुसार लोककल्याण हेतु सद्योजात, वामदेव, तत्पुरुष, अघोर, ईशान आदि अनेक अवतार रूपों में वे प्रकट हुए हैं। सनकादि ऋषियों के प्रश्न पर स्वयं शिवजी ने रुद्राष्टाध्यायी के मंत्रों द्वारा अभिषेक का महात्म्य बतलाया है। भूरि प्रशंसा की है औरबड़ा फल दिखाया है। इस प्रकार वेदों एवं उपनिषदों में 'शिव' का उद्धारक स्वरूप है।

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.