ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

सोमवार, 17 अक्तूबर 2011

एकाक्षी नारियल पूजन

स्फटिक श्री यंत्र के साथ व्यापार वृद्धी यंत्र बिल्कुल फ्री संपर्क करें..
स्फटिक श्रीयंत्र, व्यापार वृद्धी यंत्र, एक मुखी रूद्राक्ष, एकाक्षी नारियल, शत्रु विनाशक श्री बगलामुखी यंत्र,इन सभी यंत्रों को एक साथ रखने से पूर्णत: लक्ष्मी स्थायी तौर पर घर व प्रतिष्ठान में निवास करने के लिए बाध्य हो जातीं हैं. तो सज्जनों आपके सुविधा के लिए पिछले वर्ष की भांति इस वर्ष भी  ज्योतिष का सूर्य ने अपने सभी पाठकों एवं उनके इष्ट मित्रों के लिए यह सुविधा प्रदान करने का निर्णय लिया है, जो 20 अक्टूबर 2011 से दिपावली 26 अक्टूबर 2011 के अद्र्ध निशा में 21 विद्वान ब्राह्मणों द्वारा सिद्ध किया जाना तय किया गया है, ताकि वह यंत्र अधिक से अधिक चार्ज हो सके। अतएव अद्भूत एवं शक्तिशाली यंत्रों के लिए आपको आगामी रजिस्ट्रेसन कराना अनिवार्य है। अत: आप अपना नाम और गोत्र के साथ ही साथ 11000 रू.(250 ग्राम स्फटिक श्रीयंत्र पैकेज), 7500 रू.(101 ग्राम स्फटिक श्रीयंत्र पैकेज), 5100रू.(51 ग्राम स्फटिक श्रीयंत्र) इनमें से अपनी इच्छानुसार चयन धनराशि को‘Jyotish ka surya’  Oriental Bank Of Commerce..A/C.No.14351131000227 खाते में जमा करने के बाद संपर्क करें और अपना नाम गोत्र बतायें...क्योंकि आपके नाम और गोत्र अथवा फर्म के नाम पर संकल्पीत कर यंत्र को सिद्ध किया जाता है।
मोबा.नं.09827198828, 09755969999


महालक्ष्मी पूजन करने के पश्चात एकाक्षी नारियल का पूजन करना चाहिए । सर्वप्रथम हाथ में अक्षत लेकर निम्नलिखित मन्त्र से एकाक्षी नारियल का ध्यान करें :

द्विजटश्चैकनेत्रस्तु नारिकेलो महीतले ।

चिन्तामणि -सम : प्रोक्तो वांछितार्थप्रदानत: ॥

आधिभूतादि -व्याधीनां रोगादि -भयहारिणीं । विधिवत क्रियते पूजा , सम्पत्ति -सिद्धिदायकम ॥

हाथ में लिए अक्षतों को एकाक्षी नारियल पर चढा दें । अब एकाक्षी नारियल का पूजन निम्न प्रकार से करें :

तीन बार जल के छींटे दें और बोलें : पाद्यं , अर्घ्यं , आचमनीयं समर्पयामि ।

स्नानं समर्पयामि । एकाक्षी नारियल पर जल के छींटे दें ।

पंचामृत स्नानं समर्पयामि । एकाक्षी नारियल पर पंचामृत के छींटे दें ।

पंचामृतस्नानान्ते शुद्धोदक स्नानं समर्पयामि । एकाक्षी नारियल को शुद्ध जल से स्नान कराए ।

सिन्दूरं समर्पयामि । घी मिश्रित सिन्दूर का लेप करें और वर्क चढाए ।

सुवासितं इत्रं समर्पयामि । एकाक्षी नारियल पर इत्र चढाए ।

वस्त्रं समर्पयामि । एकाक्षी नारियल पर मौली चढाए ।

गन्धं समर्पयामि । एकाक्षी नारियल पर रोली अथवा लाल चन्दन चढाए ।

अक्षतान समर्पयामि । एकाक्षी नारियल पर चावल चढाए ।

पुष्पं समर्पयामि । एकाक्षी नारियल पर पुष्प चढाए ।

धूपम आघ्रापयामि । एकाक्षी नारियल पर धूप करें ।

दीपकं दर्शयामि । एकाक्षी नारियल को दीपक दिखाए ।

नैवेद्यं निवेदयामि । एकाक्षी नारियल पर प्रसाद चढाए ।

आचमनं समर्पयामि । एकाक्षी नारियल पर जल के छींटे दें ।

ऋतुफलं समर्पयामि । एकाक्षी नारियल पर ऋतुफल चढाए ।

ताम्बूलं समर्पयामि । एकाक्षी नारियल पर पान , सुपारी , इलायची आदि चढाए ।

दक्षिणां समर्पयामि । एकाक्षी नारियल पर नकदी चढाए ।

कर्पूरनीराजनं समर्पयामि । कर्पूर से आरती करें ।

नमस्कारं समर्पयामि । नमस्कार करें ।

अन्त में निम्नलिखित मन्त्र से हाथ जोडकर प्रार्थना करें :

? श्रीं ह्रीं क्लीं ऐं महालक्ष्मीस्वरुपाय एकाक्षिनारिकेलाय नम: सर्वसिद्धिं कुरु कुरु स्वाहा ॥

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.