ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

गुरुवार, 15 मार्च 2012

साहित्य प्रेमियों के लिए पराग कण है ..''कुछ भी उल्लेखनीय नहीं''

साहित्य प्रेमियों के लिए पराग कण है ..''कुछ भी उल्लेखनीय नहीं''

कुछ भी उल्लेखनीय नहीं के उद्धरण जो शायद आपको जरूर पसन्द आयेगा। ''अपने समय, परिवेश, देश और भोगे जा रहे समय पर कोई तटस्थ कैसे रह सकता है..बहुत से दुःख जो खुद नहीं भोगे गये, उन्हें किसी और ने भोगा होगा, संकट जो मुझ पर नहीं आए, किसी और पर आए होंगे। मौतें, विभीषिकाएं, गरीबी, बेरोजगारी जैसे दुःखों से मेरा नहीं पर तमाम लोगों से सामना होता है। अब सवाल यह उठता है कि दूसरों के दर्द अपने कब लगने लगते हैं....?..दूसरों के लिए आवाज़ देने में सुख क्यों आने लगते हैं....?.मेरे लिखे हुए मैं, पूरी विनम्रता के साथ सही परदुःखकारता मौजूद है''-संजय द्विवेदी -उपरोक्त पुस्तक ''कुछ भी उल्लेखनीय नहीं '' की भूमिका में श्री 'संजय द्विवेदी' जी द्वारा लिखे गए भूमिका के कुछ अंश । मित्रों वास्तव में इस पुस्तक में द्विवेदी जी ने समाज के हर वर्ग के उस दर्द और कराह को लोगों के सामने रखा है जो तथाकथित उन्नतिशील भारत के असलियत को बयां करती है। मुझे विश्वास है कि आप सभी सुहृद जनों को अवश्य पसन्द आयेगा। भारत सहित अन्य देशों में उम्दा साहित्यकारों एवं साहित्य प्रेमीयों के हर उस अनछुए पहलुओं एवं मर्मस्पर्शी वेदना के मर्म स्थान को अमृतमय और ज्ञान की गर्माहट से तप्त भूमि की वर्षाऋतु मे सोंधापन की सोंधी सुगन्ध भ्रमरों तितलियों के लिए पराग कण का प्राशन करना चाहते हैं, उनके इन सभी चाहों को पूरी करती यह संजय जी की कृती कुछ भी उल्लेखनीय नहीं के लिए उनको सहृदय धन्यवाद। - ज्योतिषाचार्य पं.विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका http://ptvinodchoubey.blogspot.in/2012/03/blog-post_15.html

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.