ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

शुक्रवार, 1 अप्रैल 2011


विश्वकप फाईनल में भारत का जीतना तय है-ज्योतिषाचार्य पं विनोद चौबे महाराज(ज्योतिष का सूर्य) हिन्दी मासिक पत्रिका ,भिलाई,दुर्ग (छ.ग.)
कल वानखेड़े स्टेडियम में भारतीय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के धुरंधर खेल के हर पहलु में श्रीलंका को मात देने में कामयाब रहेंगे। शनिवार को टीम इंडिया ही विश्व चैंपियन का ताज पहनेगी। कप्तान धोनी के सितारे एकबार फिर उनके साथ हैं।
मैच शनिवार को है और धनिष्ठा नक्षत्र में शुरू होगा जिसके स्वामी भी शनि है। इस दौरान महादशा में भी शनि में शनि का अंतर चल रहा है। शनि भारत के पक्ष में है। शनि की साढ़ेसाती में धोनी ने फाइनल तक का रास्ता तय किया है। यह शनि ही उनको विश्व विजेता बनाएगा।
श्रीलंका के कप्तान कुमार संगकारा की कुंडली में चंद्र की महादशा में बुध का अंतर चल रहा है। चंद्र एवं बुध परस्पर शत्रु हैं इसके कारण कुमार संगकारा की रणनिति फेल हो सकता है। मैच के दौरान गोचर में भी पांच ग्रहों की शनि पर सीधी दृष्टी रहेगी, जो कन्या राशि में वक्री होकर स्थित है। इससे भी भारत को बल मिलेगा क्योंकि शनि भारत के लिए हमेशा लाभदायक रहा है। कप्तान धोनी को भी शनि की साढ़ेसाती का अंतिम ढैय्या चल रहा जो विशेष प्रतिष्ठा तथा नाम देकर जाएगा। साथ ही उन्हें राहु की महादशा भी है, जिसका तोड़ श्रीलंका के पास नही है।
श्रीलंका के कप्तान सांगकारा की राशि मेष है तथा चंद्रमा उनकी राशि से बारहवां होने से उन्हें कोई फायदा नहीं होगा। मैच की शुरुआत के समय कर्क लग्र होगी जो भारत का पलड़ा भारी बनाती है। कर्क जो वर्तमान भारत के जन्म के समय की राशि है उस पर स्वराशिगत गुरु की पूर्ण दृष्टि है, जो उसके लिए भाग्यशाली होने के साथ ही विजेता का ताज पहनाने के लिए पर्याप्त है। मैच में श्रीलंका प्रयास तो बहुत करेगा परंतु आखिरकार भारत ही विजेता होगा।

ज्योतिषाचार्य पं विनोद चौबे महाराज
(ज्योतिष का सूर्य) हिन्दी मासिक पत्रिका ,भिलाई,दुर्ग (छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.