ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

मंगलवार, 18 मार्च 2014

..........काहें कि नरेन्द्र मोदी के सम्हने उऽऽ(केजरीवाल) न टिक पईंहऽऽ....

दशाश्वमेध घाट के मान मंदिर के पान ठेला पर संवाद चल रहा था (वाराणसी)

 काहें कि नरेन्द्र मोदी के सम्हने उऽऽ(केजरीवाल) न टिक पईंहऽऽ....

गुंजन महाराज जीतू सरदार से कहलन की - का गुरु आजकल नरेन्दर मोदी क जब से नाम बनारस से चुनाव लड़ले क आयेल ह तबसे सब्बो टीबी वाला इहां आवत हउवँ..

जीतू सरदार- हाँ, गुरु नरेन्दर मोदी कै हम देखली अईसन भाषन देहेलस की हम्मे लगल की जरुर महादेव एकरे कपारे पर सवार हो गयेल हउवँ...नरेन्दर मोदी बदे ही इहाँ सब टीबी वाला लाईव देखावत हउवँ।

गुंजन महाराज - का जीतू , ईइइ...केजरीवाल कवन हऽऽव गुरु , इहैँ तऽऽ लंगोट पक्का पहलवानन् क जरुरत हऽऽव, सुनत हईंऽऽ वोहू इहाँ से चुनाव लड़े बदे आवत हौंऽऽव..।

जीतू सरदार - हाँ, गुरु, घाट पर सुबैहैये आखाड़ा में दण्ड पेलत रहलीं तऽऽ लईकन मन कहत हौंव, ईऽऽ केजरीवाल कहीं नौकरी करत रहल, अब राजनीति में आऽऽ के फँस गयेल हऽऽव।
अऽऽऊर बनारस में ठण्डई पीये बदे आऽऽवत हऽऽव ,  गौदवलिया वाले गामा पान वाले क एक ठे बीड़ा खाके मन-मन्साईन करे के बाद रफू चक्कर हो जाही..

गुंजन महाराज- जीतू, तोहें एक काम करेके पड़ी ..एक दिन केजरीवाल के अखाड़ा पर ले जाके उन्हें धोबिया पाठ सिखावे के पड़ी, काहें कि नरेन्द्र मोदी के सम्हने उऽऽ न टिक पईंहऽऽ।

अब थोड़ा इधर भी........
ईऽऽ टबलेट आदरणीय चकाचक बनारसी जी क हऽऽव...खाँसी माकूल दवाई खाऽऽल...राजा..................................................................................
चेत गइल जनता त बोलऽ हे मंत्री जी फिर का करबऽ ।

दरे दरे गोड़ धरिया कइलऽ दाँत निपोरत रहलऽ मालिक,
भिखमंगई, चन्दा व्यौरा पर सच्चा जीयत रहलऽ मालिक,
कांगरेसी तू रहलऽ नाहीं झटके में बन गइलऽ मालिक,
बाप दादा भीख मंगलन, तू एम०एल०ए० हो गइलऽ मालिक,
कुर्सी निकल गइल त बोलऽ फिर केकर तू चीलम भरबऽ ॥१॥

सत्ता में अउतै तू मालिक दिव्य डुबइलऽ देश कऽ लोटिया,
दरे दरे उदघाटन कइलऽ पेड़ लगउलऽ रखलऽ पटिया,
घूसो लेहलऽ टैक्स बढ़इलऽ सबै काम तू कइलऽ घटिया,
आज देश कंगाल हो गयल, कइलऽ खड़ी देश कऽ खटिया,
खूँटा में बँधलेस जनता त कइसे खेत देस क चरबऽ ॥।२॥

पाँच बरस अस्वासस्न छोड़ के जनता के कुछ देहलऽ नाहीं,
अउर तू का देतऽ जनता के रासन तक त देहलऽ नाहीं,
सेतै देहलऽ परमिट, कोटा, लाइसेंस का लेहलऽ नाहीं ?
सच बोले का खानदान के सरकारी पद देहलऽ नाहीं ?
यदि हिसाब लेहलेस जनता त फिर केकर सोहरइबऽ धरबऽ ॥३॥

वादा पर वादा कइलऽ पर वादा पूरा कइलऽ नाहीं,
बेइमानन क साथ निभइलऽ बेइमानन के धइलऽ नाहीं,
हौ सेवा करतब हमार का भाषन में तू कहलऽ नाहीं ?
बोलऽ बे मतलब तू का दौरा पर दौरा कइलऽ नाहीं ?
मर के तू शैतानै होबऽ मरले पर तू नाहीं मरबऽ ॥४॥

जनता के भूखा मरलऽ पर हचक हचक के खइलऽ सच्चा,
कभी बाजरा कांड, कभी लाइसेंस कांड तू कइलऽ सच्चा,
तू चुनाव के जीतै खातिर तस्करवन के धइलऽ सच्चा,
सबके धर के लोकतंत्र खतरे में हौ समझउलऽ सच्चा,
सोझे संसद भंग न होई सोझे तू सब नाहीं टरबऽ ॥५॥

सोचत होबऽ अपने मन में की सब जूता नाप क हउवै,
सोचत होबऽ अपने मन में की मंत्री पद टाप क हउवै,
तनिको नाहीं सोचत होबऽ की ई कुल धन पाप क हउवै,
छोड़तऽ काहे नाहीं कुर्सी का ऊ तोहरे बाप क हउवै,
कइले चालऽ पाप एकजाई यही जनम में सब कुछ भरबऽ ॥६॥

सब कुछ छोड़बऽ सीधे-सीधे तोप चली न चली तमंचा,
जाग रहल हौ देस चकाचक रोजै होई खमची खमचा,
गिनवाई जौने दिन जनता दिव्य लगइबऽ ओ दिन खोमचा,
निश्चित भुक्खन मर जइहैं ओ दिन तोहार कुल चमची चमचा,
पाँच बरस तू रह गइलऽ त अबकी मालिक देश के गरबऽ ॥७॥

--चकाचक बनारसी

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.