ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

सोमवार, 23 अप्रैल 2012

तंबाकू सेवन का निषेध है ---धर्मशास्त्रों में

 संसार के समस्त धर्मो तथा धर्मप्रवर्तकों ने हर प्रकार की नशे को अधर्म बतलाया है और इसकी निंदा की है, धर्म-ग्रंथों में स्थान-स्थान पर कहा गया है- जो व्यक्ति धूम्रपान करने वाले ब्राह्मणों को दान देता है तो वह [दान देने वाला] नरक में जाता है और ब्राह्मण ग्राम में शूकर बनता है।
शास्त्रों के इस प्रकार प्रमाण वचनों के होते हुए भी जो व्यक्ति तंबाकू, शराब आदि नशों का सेवन किया करते है और उस कुकर्म की संगति प्रदान करने के लिए धर्म की आड़ लेते है, वे अपने इहलोक तथा परलोक दोनों को बिगाड़ते है।
यह भी निर्विवाद सत्य ही है कि धार्मिक दृष्टिकोण से भी तंबाकू त्याज्य है। ऐतिहासिक दृष्टिपात करे तो तंबाकू को संसार में प्रचार हुए पांच से छह सौ वर्ष ही हुए है। कोलंबस की अमेरिकी खोज के पहले एशिया, यूरोप, अफ्रीका आदि अन्य महाद्वीप वालों को तंबाकू के संबंध में कोई ज्ञान न था। परंतु धूम्रपान भारत वर्ष के लिए सर्वथा नई चीज नहीं है।
आयुर्वेद के चरक तथा सुश्रुत जैसे हजारों वर्ष पूर्व रचे गए ग्रंथों में धूम्रपान का विधान है। वहां पर उसका वर्णन औषधि के रूप में हुआ है जैसे कहा गया है कि आम के सूखे पत्ते को चिलम जैसी किसी उपकरण में रखकर धुआं खींचने से गले के रोगों में आराम होता है। दमा तथा श्वास संबंधी रोगों में वासा [अडूसा] के सूखे पत्तों को चिलम में रखकर पीना एक प्रभावशाली उपाय माना गया है। हमारे देश में भांग या विजया का चलन काफी प्राचीनकाल से है।
यद्यपि पुराण और स्मृतियों में कहीं-कहीं धूम्रपान को निषेध और उसके प्रयोग करने वाले के लिए लौकिक या पारलौकिक दंड मिलने का उल्लेख है। उदाहरणार्थ- 'स्कंद पुराण में एक स्थान पर कहा गया है- 'स्वधर्म का आचरण करके जो पुण्य प्राप्त किया जाता है, वह धूम्रपान से नष्ट हो जाता है। इस कारण समस्त ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य आदि को इसका सेवन कदापि नहीं करना चाहिए।
'अनेक तीर्थो में स्नान व दान कर लेना और प्रयोग आदि में अनेक बार स्नान करना भी धूम्रपान के कारण व्यर्थ हो जाता है। क्योंकि इस कुटेव के कारण मनुष्य के हृदय में दूषित वृत्तियों का उत्थान होता है और उसके विचार अशुद्ध हो जाते है। 'इसी प्रकार सुवर्ण, गौ, अन्न आदि का बहुत सा दान भी धूम्रपान रूपी पाप के फल से निष्फल हो जाता है।
इन उपर्युक्त कथनों से प्रतीत होता है कि नशे के रूप में धूम्रपान के दोषों से प्राचीन समय के विचारक भी परिचित थे और इसलिए वे धार्मिक दृष्टि से इसको हेय और त्याज्य बतला चुके है। तीर्थ स्थानों पर लगने वाले बड़े मेलों में धूनी पर बैठकर सुलफा, गांजा अथवा तंबाकू के दम लगाने वालों से पूछना चाहिए कि वे इस प्रकार का कुकर्म करके क्यों अपने और अन्य लोगों के तीर्थ स्थान के पुण्य को नष्ट करते हैं।
इसमें कुछ भी संदेह नहीं है कि चाहे तंबाकू का चलन वर्तमान रूप में चार-पांच सौ वर्ष पहले ही हुआ हो, परंतु नशे के रूप में धूम्रपान सदा से हानिकारक, दूषित और एक पाप कर्म माना गया है। इसीलिए इन दिनों जितने संत-मत तथा धार्मिक संप्रदाय चले है, सब में इसका निषेध है। किसी भी धर्म प्रिय सज्जन ने आज तक इसका समर्थन नहीं किया।
स्वास्थ्य विभाग संगठन की टीम ने एक 'सैंपल सर्वे किया तो ज्ञात हुआ कि एक-दो लाख की आबादी वाले भारतीय शहरों में 2 करोड़ 70 लाख सिगरेटों एवं 5 करोड़ 12 लाख बीड़ियों की खपत प्रतिदिन विक्रेताओं के माध्यम से होती है। यह सब उस वैज्ञानिक चेतावनी के बावजूद है जो हर सिगरेट के पैकेट पर अंकित रहती है कि यह स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। फिर भी लोग धूम्रपान करते है।
450 ग्राम तंबाकू में निकोटीन नामक जहर की मात्रा लगभग 22.8 ग्राम होती है। इसकी 6 ग्राम मात्रा से एक कुत्ता 3 मिनट में मर जाता है। फिर व्यक्ति धूम्रपान करके स्वयं मौत को न्यौता क्यों दे रहा है?
प्रसिद्ध चिकित्सकों का मत है कि तंबाकू के प्रयोग से दांत कमजोर पड़ जाते है और असमय ही गिर जाते है। अनेक दंत रोग हो जाते है। मंदाग्नि रोग हो जाता है। आंखों की ज्योति कम हो जाती है। आदमी बहरा व अन्धा हो जाता है। व्यक्ति नपुंसक भी हो सकता है। फेफड़ों की टीबी हो जाती है, जो मनुष्य को सब प्रकार से बर्बाद कर देती है और मृत्यु को निकट ला देती है। तंबाकू के निकोटीन से ब्लड प्रेशर बढ़ता है, रक्त संचार मंद पड़ जाता है। अत: तंबाकू , धूम्रपान करने वाले को उसका प्रयोग नहीं करने का संकल्प लेना ही चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.