ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

शनिवार, 25 मई 2013

ज्योतिष सम्मेलन हेतु विशेष सूचना।

ज्योतिष सम्मेलन हेतु विशेष सूचना।

ज्योतिषी एवं वास्तुविद मित्रों से अनुरोध है कि ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के चतुर्थ वर्षगांठ के अवसर पर 25 अगस्त 2013 को छ्तीसगढ़ के जिला दुर्ग में स्थित भिलाई में में ज्योतिष सम्मेलन का आयोजन करने जा रहे हैं। इस कार्यक्रम में ज्योतिष एवं वास्तु से जुड़े तमाम बिन्दूओं पर संगोष्ठी के साथ ही वरिष्ठ ज्योतिषियों द्वारा प्रतिभावान ज्योतिषियों को गोल्ड मेडल, महर्षि पाराशर अलंकरण, महर्षि आर्यभट्ट अलंकरण एवं वास्तु पुरुष अलंकरणों से अलंकृत किया जायेगा। इस सम्मेलन में भाग लेने के पूर्व आप समपूर्ण बायोडाटा, 4 पासपोर्ट साईज फोटो एवं पत्राचार का पूर्ण पता मय फोन, मोबाईल नं. के साथ हमें इस पते भेजें-

''ज्योतिष का सूर्य'' प्रधान कार्यालय,
संपादक- ज्योतिषाचार्य पं.विनोद चौबे,
जीवन ज्योतिष भवन, सड़क-26, कोहका मेन रोड,
शांतिनगर, भिलाई, जिला-दुर्ग (छ.ग.) 490023,
मोबा.नं.09827198828,
मेल आईडी- jyotishkasurya@gmail.com

सूचना@ पत्र प्राप्त होने के बाद आपको आपके द्वारा प्रेषित पते पर कार्यक्रम की सम्पूर्ण जानकारी एवं पहुँच मार्ग अथवा अन्य जानकारियाँ आपके पते पर भेज दिया जायेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.