ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

सोमवार, 19 जून 2017

'राजनीति' नहीं 'जमीनी राष्ट्रनीति' के परिणाम हैं 'रामनाथ कोविंद' ड्राईंग रुम से बाहर निकलो तब कोई 'रामनाथ कोविंद' मिलेगा...

'राजनीति' नहीं 'जमीनी राष्ट्रनीति' के परिणाम हैं 'रामनाथ कोविंद' ड्राईंग रुम से बाहर निकलो तब कोई 'रामनाथ कोविंद' मिलेगा......

..."भीमवाद और किसानवाद" ...........
या 'दलाल नीति' या  'ड्राईंग रूम' राजनीति नहीं चलेगी....यह मोदी जी ने महामहिम के लिये श्री कोविंद जी का अचानक नाम लाकर सबको चौंका दिया....
रामनाथ कोविन्द को लेकर पीएम मोदी का ट्वीट देखिए और संकेत समझिए!

नरेंद्र मोदी और अमित शाह की जोड़ी और उनकी राजनीति ने दिल्ली के एलिट क्लब को बिल्कुल कुचल दिया है। राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रुप में *रामनाथ कोविन्द* को आगे लाकर इन दोनों ने पॉलिटिकल पंडितों को बता दिया है कि ड्राइंग रूम से बाहर निकलो और जमीन की राजनीति समझो!

देश की राजनीति आम लोगों की राजनीति हो रही है, इसे दलाल वर्ग, एलिट क्लब और घिसी-पिटी राजनीति करने वाले जितना जल्दी समझ लें, उतनी ही जल्दी उनकी बेचैनी कम होगी। वरना जब तक मोदी हैं, ये सारे ऐसे ही भौंचक्के होते रहेंगे!

विपक्ष के लिए दलित व किसान के बेटे का विरोध बहुत मुश्किल होगा। यह भीमवाद और किसानवाद के नाम पर देश में गंदी राजनीति और अराजकता फैलाने वालों के लिए सीधा संकेत है कि दलित और किसान को देश से जोड़ने की जरुरत है न कि तोड़ने की!

एक बात और। पीएम मोदी का ट्वीट देखिए और संकेत समझिए! 30 साल तक उच्च व सुप्रीम कोर्ट में वकालत करने वाले कोविन्द को संविधान और कानून की अच्छी जानकारी है, इसलिए वो बेहद कारगर होने जा रहे हैं। संकेत साफ है कि भविष्य में संविधान की नयी व्याख्या के लिए आप सब तैयार रहें!
(लेखक:-  श्री कनिराम जी "शाश्वत राष्ट्रबोध" मासिक पत्र के समस्त प्रकल्प प्रमुख एवं प्रांत प्रचार प्रमुख (आरएसएस), रायपुर हैं)

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.