ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

सोमवार, 5 नवंबर 2012

इख लख पुत सवालख नाती ता रावण घर दिया न बाती...

इख लख पुत सवालख नाती ता रावण घर दिया न बाती...
लगता नितीन गडकरी जी का समय खराब चल रहा है...या मीडिया उनके पिछे पड़ी है ये साफ नहीं है...। परन्तु इतना जरूर है कि भगवा आतंक कहने वाली कांग्रेस अब उसी भगवा धारी स्वामी विवेकानन्द जी के भक्त बन गई है..। इतना परिवर्तन कांग्रेस का बगुला भक्ति ही कहा जा सकता है..। बाकि कभी कांग्रेसी भगवा आतंक कह कहकर देश के छोटे बड़े सभी सन्तों को एक लाईन में खड़ी कर दिये थे। और यह तब हुआ था जब देश के गृहमंत्री श्रीमान पी.चिदम्बरम जी थे। उस समय तो भगवा आतंक कहने के पहले यह बयान जारी नहीं किया कि स्वामी विवेकानन्दजी को छोड़कर बाकि सभी भगवा धारी आतंकी गतिविधियों में संलिप्त हैं। देश की जनता सब जानती है...श्री मनीष तिवारी जी आप लोगों का घमंड शिर चढ़कर बोल रहा है...लेकिन बोलने और गरजने में अन्तर होता है ..जैसे की इस समय नरेन्द्र मोदी जी हमेशा गरजते रहते हैं...। शायद ऐसी गर्जना कांग्रेस के किसी अन्य नेता में हो। अभी तो अरविन्द-अमोघ अस्त्र, स्वामी सुब्रह्मण्यम स्वामी का आग्न्येयास्त्र, बाबा रामदेव का वरुणास्त्र, अन्ना हजारे जी का इकतीस फणीश बांण कब तक बर्दाश्त कर पाओंगे। वह दिन दूर नहीं कि ''इख लख पुत सवालख नाती ता रावण घर दिया न बाती''..की प्रांसंगिकता कांग्रेस पर फिट बैठ जाये।

कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.