ज्योतिषाचार्य पंडित विनोद चौबे

!!विशेष सूचना!!
नोट: इस ब्लाग में प्रकाशित कोई भी तथ्य, फोटो अथवा आलेख अथवा तोड़-मरोड़ कर कोई भी अंश हमारे बगैर अनुमति के प्रकाशित करना अथवा अपने नाम अथवा बेनामी तौर पर प्रकाशित करना दण्डनीय अपराध है। ऐसा पाये जाने पर कानूनी कार्यवाही करने को हमें बाध्य होना पड़ेगा। यदि कोई समाचार एजेन्सी, पत्र, पत्रिकाएं इस ब्लाग से कोई भी आलेख अपने समाचार पत्र में प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमसे सम्पर्क कर अनुमती लेकर ही प्रकाशित करें।-ज्योतिषाचार्य पं. विनोद चौबे, सम्पादक ''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका,-भिलाई, दुर्ग (छ.ग.) मोबा.नं.09827198828
!!सदस्यता हेतु !!
.''ज्योतिष का सूर्य'' राष्ट्रीय मासिक पत्रिका के 'वार्षिक' सदस्यता हेतु संपूर्ण पता एवं उपरोक्त खाते में 220 रूपये 'Jyotish ka surya' के खाते में Oriental Bank of Commerce A/c No.14351131000227 जमाकर हमें सूचित करें।

ज्योतिष एवं वास्तु परामर्श हेतु संपर्क 09827198828 (निःशुल्क संपर्क न करें)

आप सभी प्रिय साथियों का स्नेह है..

शुक्रवार, 27 सितंबर 2013

पार्वण श्राद्ध (पिण्डदान) की एक झलक..

पार्वण श्राद्ध (पिण्डदान) की एक झलक..


आज पितृपक्ष का अष्टमी तिथि थी। इसी तिथि को हमारी माता स्व.श्रीमती माया देवी (9जनवरी 1998) एवं  पिता स्व.श्री रामजी चौबे जी का (05जनवरी2013) को स्वर्गवास हुआ था। अतः आज अपने माता-पिता एवं पितामह, प्रपितामह (सपत्निकस्य) साथ में द्वितीय कुल मातामह, प्रमातामह, वृद्धप्रमातामह (सपत्निकस्य) को याद करते हुए अपराह्न काल में पार्वण श्राद्ध के अन्तर्गत जो करते बना शास्त्र सम्मत हमने पिष्डदानादि कार्य किया। मुझे विश्वास है कि भारतीय संस्कृति में पला-बढ़ा हर पुत्र यह पुनीत कार्य अवश्य करेगा।
हर युवा पीढ़ी..अपने आदरणीय पितरों को इस 16 दिवसीय पितृ-महायज्ञ में याद अवश्य करेगा। साथ ही मैं चलते-चलते यह भी बताना चाहूंगा कि जीतेजी माता-पिता की जो सेवा सुश्रुसा नहीं किया उस पुत्र को पिण्डदान देने मात्र से पितृ-दोष से मुक्ति नहीं मिलने वाला। अतः आप सभी चाहें किसी भी धर्म व सम्प्रदाय को मानने वाले हों आप लोग अपने माता-पिता का कत्तई अनादर न करें..यही वास्तवीक पितृ-यज्ञ है और पितृ-दोष से मुक्ति का उपाय भी। 













कोई टिप्पणी नहीं:

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.